मां ने 23 साल के बेटे के पैर में की मसाज और हो गई उसकी मौत

0

अगली बार आप जब शरीर के किसी हिस्से में लंबे समय से हो रहे किसी दर्द से निजात पाने के लिए मालिश कराने की सोचें तो यह ध्यान रखे कि यह आपके लिए जानलेवा भी साबित हो सकता है।

एक दर्दनाक घटना के तहत बैडमिंटन खेलते हुए एड़ी में लगी चोट के बाद 23 वर्षीय एक व्यक्ति को अंदरनी नसों में खून का थक्का जमने से होने वाला डीप वीन थ्रोम्बोसिस (डीवीटी) हो गया था और दर्द कम करने के लिए उसने अपनी मां से अपने पैर की मसाज कराई जिसके बाद उसकी मौत हो गई।

Also Read:  भारतीय युवक से शादी करने के लिए पाकिस्तानी लड़की ने सुषमा स्‍वराज से लगाई गुहार

डीवीटी एक गंभीर स्थिति है जो व्यक्ति की अंदरुनी नसों में खून का थक्का जमने से होती है। चिकित्सकों के अनुसार एड़ी में फ्रैक्चर के बाद अंदरनी नसों में खून का थक्का जमना असामान्य नहीं है लेकिन लोगों को मसाज करवाने में सावधानी बरतनी चाहिए क्योंकि कुछ मामलों में यह घातक साबित हो सकता है।

पीटीआई की ख़बर के अनुसार, एम्स के डॉक्टरों द्वारा पोस्टमार्टम किए जाने के दौरान यह मामला प्रकाश में आया, मेडिकल-लीगल जर्नल के ताजा अंक में यह मामला प्रकाशित हुआ है। पोस्टमार्टम से यह पुष्टि हुई कि 5 सेंटीमीटर लंबा और 1 सेंटीमीटर चौड़ा थक्का मसाज करने के कारण अपने स्थान से हट गया और फेफड़ों तक पहुंच गया जिसके कारण रकावट होने से व्यक्ति की तुरंत मौत हो गई।

Also Read:  RBI ने संसदीय समिति के सामने रखा सच, मोदी सरकार ने दी थी नोटबंदी की सलाह

दिल्ली निवासी इस व्यक्ति की गत वर्ष 15 सितंबर को बैडमिंटन खेलते हुए बायीं एड़ी में चोट लग गई थी जिसके बाद उसे एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां उसके पैर को स्थिर रखने के लिए प्लास्टर लगाया गया। 17 अक्तूबर को प्लास्टर हटा दिया गया और वह सामान्य तौर पर चल सकता था। बाद में उसने बायीं पिंडली, बायीं एड़ी और पैर में दर्द तथा सूजन की शिकायत की जिसके बाद उसके टेस्ट किए गए जिसमें पता चला कि उसके पैर की नस में खून का थक्का जमा हुआ है।

Also Read:  GST का असर: खादी वस्त्र की बिक्री में भारी गिरावट, टैक्स लगने से 20 फीसदी कम बिके कपड़े और संबंधित उत्पाद

एम्स में एसोसिएट प्रोफेसर ऑफ फारेंसिक मेडिसिन चितरंजन बेहरा ने कहा, ‘‘जब फिर से दर्द हुआ तो उसकी मां ने उसकी बायीं पिंडली की मसाज की मसाज के बाद उसे सीने में तेज दर्द हुआ, सांस लेने में दिक्कत हुई और वह बेहोश हो गया।’’ बेहरा के अनुसार व्यक्ति को बेहोशी की हालत में 31 अक्तूबर को एम्स के आपातकाल विभाग में लाया गया लेकिन उसे बचाया नहीं जा सका।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here