देशभर में आंधी-तूफान से मरने वालों की संख्या पहुंची 60 के पार, पीएम मोदी और राहुल गांधी ने जताया दुख

0

रविवार(13 मई) की शाम को दिल्ली-एनसीआर समेत देश के अलग-अलग हिस्सों में भीषण आंधी-तूफान का कहर देखने को मिला। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, इस आंधी-तूफान में करीब 62 लोगों की मौत हो गई, जबकी कई लोग जख्मी हो गए।

images- @aajtak

ख़बरों के मुताबिक, उत्तर प्रदेश में आंधी के कारण 39 लोगों की मौत हो गई, जबकि पश्चिम बंगाल में आंधी के कारण चार बच्चों समेत कम से कम 12 लोग मारे गये। आंध्र प्रदेश में नौ हरियाणा में एक और दिल्ली में दो लोगों की जान चली गई। वहीं, दिल्ली-एनसीआर में धूल भरी आंधी और बारिश की वजह से करीब 70 उड़ानों के मार्ग बदलने पड़े। फ्लाइट्स की आपातकालीन लैंडिंग भी करानी पड़ी है।

मौसम विभाग के मुताबिक, करीब 109 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं चली। इसकी वजह से अकेले दिल्ली में करीब 200 पेड़ों और 40 बिजली के खंभे गिर गए। तेज हवाओं के कारण कई जगहों पर पेड़ टूटकर गिर गए, जिससे कई यातायात भी बुरी तरह से प्रभावित हुआ।

गौरतलब है कि, रविवार को देश के अलग-अलग राज्यों में भीषण आंधी- तूफान आईथी। आंधी-तूफान से जो राज्य सबसे ज्यादा प्रभावित हैं उनमें पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश और राष्ट्रीय राजधानी मुख्य रूप से शामिल हैं।

दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तर भारत और दक्षिण भारत के साथ पश्चिम भारत में कई स्थानों पर शाम होते ही आसमान में धूल भरे बादल उमड़ आए थे। दिल्ली में धूल के साथ तेज हवा चलने लगी और बारिश होने लगी। आंधी-तूफान की संभावना को लेकर राज्यों का प्रशासनिक अमला अलर्ट पर है। विभागों को किसी भी विपरीत स्थिति से निपटने के लिए जरूरी इंतजाम करने को कहा गया है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ट्वीट कर कहा कि,‘देश के कुछ हिस्सों में आंधी के कारण लोगों की मौत होने से दुखी हूं। शोक संतप्त परिजनों को मेरी संवेदनाएं। घायलों के जल्द स्वस्थ होने की ईश्वर से प्रार्थना करता हूं। ’

वहीं, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा कि, ‘कल आई तेज आंधी और बिजली गिरने से मारे गए लोगों के परिवारों के प्रति संवेदना प्रकट करता हूं। कई लोग घायल भी हुए हैं।’ साथ ही उन्होंने कहा कि, ‘मैं कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं से आग्रह करता हूं कि वे प्रभावित परिवारों और घायलों की हर संभव सहायता करें।’

समाचार एजेंसी भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, तेलंगाना, उत्तराखंड और पंजाब में करीब दस दिन पहले भी तूफान आया था जिसमें 134 लोगों की मौत हुई थी और 400 से ज्यादा लोग जख्मी हुए थे। इसके बाद नौ मई को उत्तर प्रदेश के कई हिस्सों में फिर से अंधड़ आया था जिसमें 18 लोगों की मौत हो गई और 27 अन्य जख्मी हो गए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here