“जब मोदी साहब की लहर आई, विरोधी तो डूबे, सिद्धू को भी डुबो दिया”

0

हाल ही में राज्य सभा से इस्तीफा देकर सियासी हलक़ों में भौंचाल लाने वाले भाजपा के पूर्व सांसद ने आज पहली मर्तबा अपनी चुप्पी तोड़ी और कहा कि उन्हें पंजाब से दूर रखने की कोशिश की जा रही थी।

गौरतलब है अमृतसर से दो बार सांसद रहे पूर्व क्रिकेटर सिद्धू ने कहा कि 2014 में जब नरेंद्र मोदी की लहार चली तो उसने भाजपा के विरोधी के साथ साथ उन्हें भी डूबा दिया।

CoMSeX5WIAAiyhC

सिधु को जब हाल ही में भाजपा ने राज्य सभा केलिए मनोनीत किया था तो उनकी पत्नी नवजोत कौर ने इस पर टिपण्णी करते हुए कहा था कि ऐसा उनके पति को पंजाब से दूर रखने केलिए किया जा रहा था।

सिद्धू ने सोमवार की प्रेस कांफ्रेंस में आम आदमी पार्टी में शामिल होने के सवाल को ताल दिया।

ये हैं उनकी प्रेस कांफ्रेंस की ख़ास झलकियां :

  • जब आंधियाँ चलती थीं, तब तो सिद्धू जाएं. जब मोदी साहब की लहर आई, विरोधी तो डूबे, सिद्धू को भी डुबो दिया.
  • दुनिया की कोई पार्टी पंजाब से ऊपर नहीं, दुनिया की कोई पार्टी पंजाब से बड़ी नहीं. फिर कोई नफ़ा-नुक़सान हो, नवजोत सिंह सिद्धू उसे झेलने के लिए तैयार है.
  • धर्मों में सबसे बड़ा धर्म राष्ट्रधर्म, जिससे बड़ा कोई धर्म नहीं. फिर कैसे छोड़ दे नवजोत सिंह सिद्धू अपनी जड़. कैसे छोड़ दे नवजोत सिंह सिद्धू अपना वतन.
  • पहली बार आदमी जीतता है सेलिब्रिटी बनकर, दूसरी बार उसका काम जीतता है, तीसरी बार उसका आचरण जीतता है और चौथी बार उसका आचरण, व्यवहार और किरदार जीतता है.
  • पंछी भी उड़ता है, तो शाम को अपने घोंसले में आकर टिकता है. ये उसका हक़ है. राष्ट्रभक्त पक्षी भी अपना पेड़ नहीं छोड़ते.
  • इश्क़ जिनको है अपने वतन से, ख़ुदी को मिटाते रहेंगे, शमा महफ़िल में पंजाब की जलती रहेगी, सिद्धू जैसे और भी परवाने आते रहेंगे.
  • अगर मुझे मेरे चाहने वालों, परिजनों, पार्टी और पंजाब में से चुनने को कहा जाए, तो मैं सैकड़ों बार पंजाब चुनूंगा.

LEAVE A REPLY