जनसंख्या नियंत्रण वाले बयान को लेकर रामदेव पर बरसे ओवैसी, कहा- ‘मोदी सिर्फ इसलिए अपना मताधिकार नहीं खो देंगे, क्योंकि वह तीसरी संतान हैं’

0

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने सोमवार को ट्वीट कर योग गुरू बाबा रामदेव पर उनकी जनसंख्या संबंधी विवादित टिप्पणी को लेकर गहरी नाराजगी जाहिर की। रामदेव ने रविवार को कहा था कि देश जनसंख्या विस्फोट की स्थिति से निपटने के लिए तैयार नहीं है। साथ ही उन्होंने तीसरी संतान को मतदान के अधिकार और सरकारी नौकरियों से वंचित करने का सुझाव भी दिया था। रामदेव ने देश की बढ़ती आबादी पर चिंता जताते हुए कहा था कि सरकार को इसे लेकर सख्त कानून बनाने चाहिए।

 

रामदेव के इस बयान पर नाराजगी व्यक्त करते हुए ओवैसी ने ट्वीट किया, ‘‘लोगों को असंवैधानिक बातें कहने से रोकने के लिए कोई स्पष्ट कानून नहीं है, लेकिन रामदेव के विचारों पर बेवजह ध्यान क्यों दिया जाता है?’’ उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘वह योग कर सकते हैं, इसका मतलब यह नहीं है कि नरेंद्र मोदी सिर्फ इसलिए अपना मताधिकार खो देंगे, क्योंकि वह तीसरी संतान हैं।’’ ओवैसी हाल के लोकसभा चुनाव में हैदराबाद संसदीय सीट से फिर से चुनाव जीत गए हैं।

योग गुरु रामदेव ने रविवार को कहा था कि भारत अपने जनसंख्या विस्फोट से निपटने के लिए तैयार नहीं है। हरिद्वार में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए रामदेव ने कहा था कि देश की आबादी को 150 करोड़ से अधिक नहीं होने दिया जाना चाहिए।

उन्होंने सलाह दी थी, ‘‘यह तभी संभव है जब हम तीसरी संतान या इसके बाद वाली संतानों को मताधिकार से वंचित करने वाला कानून लागू करेंगे। ऐसे बच्चों को चुनाव लड़ने और अन्य सरकारी नौकरियों के अधिकार से भी वंचित किया जाना चाहिए।’’ योग गुरु ने कहा कि जब सरकार ऐसा सख्त कानून बनाएगी तभी लोग ज्यादा बच्चे पैदा करना बंद करेंगे। उन्होंने कहा कि यह कानून किसी खास धर्म के लिए नहीं बल्कि देश के हर एक नागरिक के लिए लागू हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here