टिकट से पीएम मोदी की तस्वीर नहीं हटने पर चुनाव आयोग ने रेलवे और उड्डयन मंत्रालय को नोटिस जारी कर मांगा जवाब

1

आगामी लोकसभा चुनाव के चुनाव आचार संहिता लागू होने के बाद भी रेल और हवाई यात्रा टिकट पर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर नहीं हटाने पर चुनाव आयोग ने रेल और नागरिक उड्डयन मंत्रालय को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है।

चुनाव आयोग
फाइल फोटो

सूत्रों के अनुसार, आयोग ने रेल टिकट और हवाई यात्रा के बोर्डिंग पास पर पीएम मोदी की तस्वीर को आचार संहिता का प्रथम दृष्ट्या उल्लंघन मानते हुए रेल और नागरिक उड्डयन मंत्रालय को नोटिस जारी किया है। चुनाव आयोग द्वारा 17वीं लोकसभा के चुनाव का कार्यक्रम 10 मार्च को घोषित किए जाने के साथ ही पूरे देश में चुनाव आचार संहिता लागू हो गई थी। लोकसभा चुनाव 11 अप्रैल से 19 मई तक सात चरण में होने है।

समझा जाता है कि आयोग ने आचार संहिता के सातवें उपबन्ध के तहत दोनों मंत्रालयों से जवाब माँगा है। इसके तहत आचार संहिता लागू होने के बाद सरकार जनता के पैसे से किसी भी माध्यम में अपनी उपलब्धियों का ज़िक्र करने वाले विज्ञापन जारी नहीं कर सकती है।

विभिन्न दलों और व्यक्तियों की शिकायत पर संज्ञान लेते हुए आयोग ने यह कार्रवाई की है। रेल मंत्रालय ने हालांकि इस शिकायत पर कार्रवाई करते हुए अपने सभी ज़ोन को रेल टिकट से मोदी की तस्वीर हटाने का आदेश पिछले सप्ताह जारी कर दिया था लेकिन अब तक इस पर अमल नहीं होने की शिकायत पर आयोग ने रेल मंत्रालय को नोटिस जारी किया है।

इसी प्रकार पंजाब के एक पूर्व पुलिस अधिकारी शशि कांत ने हवाई यात्रा टिकट पर मोदी और गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी की तस्वीर होने की जानकारी ट्विटर के माध्यम से दी थी।

उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा था, ‘आज 25 मार्च 2019 को नई दिल्ली हवाईअड्डे पर मेरे एयर इंडिया के बोर्डिंग पास में नरेंद्र मोदी, ‘‘वाइब्रेंट गुजरात’’ और विजय रुपाणी की तस्वीरें हैं। बोर्डिंग पास की तस्वीर नीचे संलग्न है। हैरानी हो रही है कि हम इस निर्वाचन आयोग पर पैसा क्यों बर्बाद कर रहे हैं जो ना देखता है, ना सुनता है और ना ही बोलता है।’

वहीं, दूसरी ओर चुनाव आयोग ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा घोषित न्यूनतम आय योजना यानी ‘न्याय’ की आलोचना पर नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार को नोटिस जारी किया है। चुनाव आयोग ने एक नोटिस भेजकर राजीव कुमार से इस बारे में सफाई मांगी है।

बता दें कि राजीव कुमार ने राहुल गांधी के ऐलान के बाद कहा था था कि कांग्रेस पार्टी ‘चुनाव जीतने के लिए कुछ भी कह और कर सकती है।’ गौरतलब है कि राजीव कुमार नीति आयोग के उपाध्यक्ष है और एक उच्च पद पर बैठे हुए हैं। ऐसे में उनका यह बयान आचार संहिता का उल्लघंन माना जा सकता है। (इंपुट: भाषा के साथ)

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here