#MeToo: अब ‘मी टू’ के विरोध में भी शुरू हुआ अभियान, पीड़ित महिलाओं की आलोचना वाला गीतांजलि अरोड़ा का फेसबुक पोस्ट वायरल

0

देश भर में चल रहे ‘मी टू’ अभियान के तहत हर रोज चौंकाने वाले खुलासे हो रहे हैं l महिलाओं के इस अभियान का बड़े पैमाने पर समर्थन भी मिल रहा है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शारीरिक उत्पीड़न पर अपनी बात कहने वाले महिलाओं के विश्व व्यापी अभियान #MeToo का समर्थन करते हुए कहा है कि अब समय आ गया है कि हर किसी को महिलाओं के साथ सम्मान के पेश आने की बात सीखनी चाहिए।

इस बीच अब बॉलीवुड के तमाम कलाकार और फिल्मकार ‘मी टू’ अभियान से जुड़ रहे हैं और महिलाओं के यौन शोषण के खिलाफ प्रतिबद्धता दिखा रहे हैं। अभिनेता अक्षय कुमार ने अपनी अगली फिल्म ‘हाऊसफुल 4’ से मुंह मोड़ लिया है।अक्षय कुमार ने फिल्म ‘हाउसफुल 4’ के निर्देशक साजिद खान के खिलाफ यौन उत्पीड़न के आरोप लगने के बाद एक बड़ा फैसला किया है। वही, आरोपों के बाद निर्देशक साजिद खान को अपनी कुर्सी छोड़नी पड़ी है।

इस बीच कुछ ऐसे लोग हैं जो मी टू मुहिम को लेकर सवाल भी उठाने शुरू कर दिए हैं। सोशल मीडिया पर गीतांजलि अरोड़ा नाम की महिला का एक फेसबुक पोस्ट वायरल हो रहा है, जिसमें वर्षों बाद यौन शोषण का आरोप लगाने वाली महिलाओं पर तंज कसा गया है। महिला का पोस्ट सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। महिला ने पीड़ितों पर अबला नारी कार्ड खेलने का आरोप लगाई है।

गीतांजलि का कहना है कि पहले आप जिसे पसंद करते थे उसी पर 30 साल बाद मी टू के जरिए आरोप लगाया जा रहा है। उन्होंने लिखा है कि एक मजबूत महिला 10, 20 और 30 साल तक किसी को जवाब देने के लिए इंतजार नहीं कर सकती है। बल्कि ऐसी पहली ही घटनाओं पर आरोपी को थप्पड़ मारती है और उसे वहां से निकल जाती है। गीतांजलि का आरोप है कि महिलाएं अब वर्षों बाद अबला नारी कार्ड खेलने और सहानुभूति हासिल करने के लिए आरोप लगा रही हैं।

आपको बता दें कि भारत में जारी ‘मी टू’ अभियान (यौन उत्पीड़न के खिलाफ अभियान) तूल पकड़ता जा रहा है। कई अन्य महिलाएं अपने अनुभवों को सार्वजनिक तौर पर शेयर कर रही हैं। अभिनेत्री तनुश्री दत्ता द्वारा मशहूर अभिनेता नाना पाटेकर पर यौन शोषण का आरोप लगाए जाने के बाद अब अलग-अलग इंडस्ट्री की बाकी हस्तियों ने भी अपने साथ हुए यौन दुर्व्यवहार के खिलाफ आवाज उठानी शुरू कर दी है।

फिल्म इंडस्ट्री से ‘मी टू’ अभियान की शुरुआत होने के बाद इसकी चपेट में मीडिया जगत भी आ गया है और इसकी लपटें मोदी सरकार के एक मंत्री को अपने लपेटे में ले रही हैं। अपने समय के मशहूर संपादक व वर्तमान में केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री एम.जे. अकबर पर 9 वरिष्ठ महिला पत्रकारों ने यौन उत्पीड़न और अनुचित व्यवहार के आरोप लगाए हैं। इन महिलाओं ने उन पर तमाम मीडिया संस्थानों में संपादक रहते हुए यौन उत्पीड़न करने का आरोप लगाया है।

नाना पाटेकर के बाद जहां डायरेक्टर विकास बहल, सिंगर कैलाश खेर, लेखक चेतन भगत, अभिनेता रजत कपूर, मॉडल जुल्फी सैयद, अभिनेता आलोक नाथ, हिंदुस्तान टाइम्स के संपादक प्रशांत झा, रघु दीक्षित, कमेंटेटर सुहेल सेठ, महिला कॉमिक स्टार अदिति मित्तल, बॉलीवुड के शोमैन सुभाई घई, फिल्ममेकर साजिद खान, लेखक-निर्देशक पीयूष मिश्रा और बीसीसीआई के सीईओ राहुल जौहरी भी ‘मी टू’ की चपेट में आए हैं, जिनपर यौन उत्पीड़न, बदसलूकी, गलत तरीके से छूने जैसे आरोप लगे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here