जम्मू-कश्मीर के बिगड़ते हालात पर पीएम से मिली महबूबा मुफ्ती, घाटी में तनाव के लिए पाकिस्तान को बताया ज़िम्मेदार

0

पीएम मोदी से मुलाकात के बाद जम्मू-कश्मीर की सीएम महबूबा मुफ्ती ने कहा कि अगर घाटी के हालात से निपटने के लिए वो कर्फ्यू नहीं लगातीं तो और क्या करतीं।

मुफ्ती ने पीएम से मिलकर घाटी में सुरक्षा हालातों पर चर्चा की मुलाकात के बाद महबूबा ने कहा कि घाटी में हिंसा सबके लिए चिंता की बात है और पीएम शांति बहाली के पक्ष में हैं।

एनडीटीवी की खबर के अनुसार महबूबा मुफ्ती ने कहा,’जितनी तकलीफ हमें है, उतनी ही तकलीफ (पीएम मोदी) को भी है। जो लोग मर रहे हैं वे हमारे बच्चे हैं।
मुलाकात के बाद उन्होंने मीडिया से मुखातिब होते हुए कहा कि पीएम कश्मीर के हालात को लेकर चिंतित हैं। कश्मीर समस्या का हल खोज जाए उन्होंने कहा- लगता है कहीं-न-कहीं कुछ जमा हुआ है। कर्फ्यू का मकसद यह है कि लोगों की जान बची रहे।

Also Read:  When PM Modi was reminded about Gujarat riots and asked about intolerant India

महबूबा ने मीडिया से अपील की माहौल को बेहतर करने के लिए सहयोग करें उन्होंने मीडिया से कहा-मेरी मदद कीजिए बता दें कि यह दूसरी बार है जब कश्मीर के हालात पर पीएम से चर्चा के लिए महबूबा दिल्ली पहुंची हों उन्होंने कहा, ‘अलगाववादियों को आगे आना चाहिए और निर्दोष लोगों का जीवन बचाने में जम्मू कश्मीर सरकार की मदद करनी चाहिए। ‘यह समय पाकिस्तान के लिए जवाब देने का है कि वह कश्मीर में शांति चाहता है या नहीं।

Also Read:  मेवात : घर में घुसकर हत्या और रेप के मामले में चार गिरफ्तार

उन्होंने जोर देकर कहा कि हमारे युवाओं को पत्थर मारने के लिए उकसाया जाता है। हमारे युवाओं को उकसाना बंद हो ये मुलाक़ात उस वक़्त पर हुई है जब गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने हाल में अपने दो दिनों के कश्मीर दौरे पर ये साफ़ कर दिया है कि उपद्रवियों के साथ किसी तरह की नरमी नहीं बरती जाएगी।

Also Read:  मोदी के स्वागत होर्डिंग में लिखा 'ये देश नहीं झुकने दूंगा' लेकिन तस्वीर लगी अमेरिकन आर्मी की

इस बीच पैलेट गन के विकल्प के तौर पर मिर्ची के गोले के इस्तेमाल पर बात हो रही है. 8 जुलाई को आतंकी बुरहान वानी के मारे जाने के बाद से घाटी में हिंसा भड़क गई थी जिसके चलते 67 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि सैकड़ों लोग घायल हुए हैं। अब भी कई इलाक़ों में कर्फ़्यू जारी है। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार हिंसा के दौर पर विराम लगाने के लिए महबूबा को कुछ चीजों के बारे में स्पष्ट तौर पर बता दिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here