मेरठ: रात भर बेटी का शव लिए अस्पताल के बाहर बैठी रही महिला, नहीं मिली एम्बुलेंस

0

बागपत की एक महिला अपनी तीन साल की बच्ची की लाश गोद में लेकर जिला अस्पताल के इमरजेंसी की चौखट पर रात भर बैठी रहीं।

तेज बुखार की वजह से उसकी बच्ची की मौत हो गई थी।  मां उसका शव गांव ले जाना चाहती थी, लेकिन महिला के पास ढाई हजार रुपए नहीं थे। जिसकी वजह से निजी एम्बुलेंस के चालक ने शव बागपत पहुंचाने से इनकार कर दिया।

Also Read:  'मायावती को मुस्लिम तुष्टीकरण और अखिलेश को जातिवाद ले डूबे', सोशल मीडिया यूजर्स बता रहे है क्यों हारी सपा-बसपा

बृहस्पतिवार रात करीब नौ बजे हालत बिगड़ने पर बच्ची को मेरठ मेडिकल अस्पताल रेफर कर दिया गया। जहां पहुंचते ही डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। करीब दो घंटे तक बच्ची की मां मेडिकल इमरजेंसी के बाहर खड़ी सरकारी एम्बुलेंस से बच्ची के शव को अपने गांव ले जाने की मिन्नत करती रही। लेकिन सबने जाने से इनकार कर दिया

Also Read:  मेरठ में बजरंग दल ने पकड़ी भाजपा नेता राहुल ठाकुर की मीट फैक्ट्री, जमकर की धुनाई

गौरतलब है कि कुछ ही दिन पहले ओडिशा में एक व्यक्ति की अपनी पत्नी के शव को कंधे पर उठाए कई किलोमीटर पैदल चलने की तस्वीरें सामने आई थीं, जिसे अस्पताल ने शववाहन की सुविधा देने से इंकार कर दिया था।

Also Read:  उत्तराखंड में फ्लोर टेस्ट की चाक चोबंद तैयारियां

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here