लोकसभा चुनाव: लखनऊ गेस्ट हाउस कांड के 23 साल बाद मायावती, मुलायम सिंह यादव और आजम खान के साथ साझा करेंगी मंच

0

सपा संरक्षक और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव और आज़म खान पर लखनऊ में एक गेस्ट हाउस के भीतर सार्वजनिक रूप से अपमानित करने का आरोप लगाने के 23 साल बाद बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की प्रमुख मायावती इस साल के लोकसभा चुनावों में मुलायम सिंह यादव के साथ मंच साझा करती नज़र आएंगी।

मायावती

एसपी के राष्ट्रीय सचिव राजेंद्र चौधरी ने शुक्रवार को बताया कि 19 अप्रैल को मैनपुरी में एसपी-बीएसपी-आरएलडी की साझा रैली होगी। गठबंधन होने के बाद तीनों पार्टियों के नेता 11 साझा रैलियां करेंगे। बता दें कि मायावती की यह रैली ऐसे समय पर हो रही है जब मुलायम सिंह ने एसपी-बीएसपी गठबंधन के सीटों के बंटवारे के बाद खुलेआम इस पर अपनी नाखुशी जताई थी। हालांकि, माया की रैली एसपी-बीएसपी के बीच तल्खी खत्म होने की निशानी भी मानी जा रही है।

अखिलेश यादव और अजीत सिंह के साथ उनकी पहली संयुक्त रैली 7 अप्रैल को सहारनपुर के देवबंद में होगी। नवगठित महागठबंधन के नेताओं को इस रैली के माध्यम से सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, कैराना और बिजनौर में मतदाताओं को लुभाने की संभावना है।

मायावती की अगली दो संयुक्त रैलियां 13 अप्रैल को बदायूं में होंगी और उसके बाद 16 अप्रैल को आगरा में होंगी। वह 19 अप्रैल को यादव (अखिलेश और मुलायम) के लिए गढ़ माने जाने वाले मैनपुरी भी जाएंगे। बता दें कि सपा ने यहां से मुलायम सिंह यादव को मैदान में उतारा है। इस रैली में मायावती और मुलायम सिंह एक मंच पर नजर आ सकते हैं। यह पहली बार होगा जब मायावती गेस्ट हाउस कांड के बाद से मुलायम के साथ मंच साझा करती नजर आएंगी।

साथ ही संभावना जताई जा रही है कि मायावती 20 अप्रैल को रामपुर और फिरोजाबाद में आज़म खान के साथ भी मंच साझा कर सकती है। महागठबंधन के नेता 1 मई को अयोध्या, 8 मई को आजमगढ़, 13 मई को गोरखपुर और 16 मई को वाराणसी में भी अपनी रैली की यात्रा निकाल सकते है।

जून 1995 में सपा के गुस्साए समर्थकों ने लखनऊ के मीराबाई गेस्ट हाउस में घुसकर मायावती के साथ बदसलूकी की थी। वहीं इस मामले में जो एफआईआर दर्ज कराई गई थी, उसमें कहा गया था कि समाजवादी पार्टी के लोग मायावती को जान से मारना चाहते थे। बीएसपी द्वारा दायर की गई शिकायत में प्रमुख नेताओं में मुलायम सिंह यादव, उनके भाई शिवपाल सिंह यादव, आजम खान और बेनी प्रसाद वर्मा शामिल थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here