BSP प्रमुख मायावती का आरोप, गुजरात सरकार की किताब में गलत पढ़ाए जा रहे बाबा साहब भीमराव आंबेडकर के नारे

0

बहुजन समाज पार्टी (BSP) की प्रमुख और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने आरोप लगाया कि गुजरात सरकार की किताबों में बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर के गलत नारे को पढ़ाया जा रहा है। उन्होंने शनिवार को ट्वीट कर कहा कि यह कांग्रेस की तरह भाजपा के दलित विरोधी चेहरे को उजागर करता है। उन्होंने इसमें तत्काल सुधार करने की मांग की है।

मायावती
(File Photo by Ajay Aggarwal/ Hindustan Times via Getty Images)

मायावती ने ट्वीट कर कहा, ” ’शिक्षित बनो, संघर्ष करो, संगठित रहो’ बाबा साहेब डॉ आंबेडकर का वह अमर वाक्य है जो करोड़ों दलितों व पिछड़ों को आगे बढ़ने की प्रेरणा व शक्ति देता है। पर गुजरात सरकार की पुस्तक में उसे गलत पढ़ाया जा रहा है जो कांग्रेस की तरह बीजेपी के अम्बेडकर व दलित-विरोधी चेहरे को बेनकाब करता है।”

एक अन्य ट्वीट में मायावती ने कहा, “दलित अत्याचार व उत्पीड़न के जघन्य अपराधों के साथ-साथ गुजरात बीजेपी सरकार के इस प्रकार के घोर षडयंत्रकारी कदम का तीव्र विरोध स्वाभाविक है। परमपूज्य डा. अम्बेडकर के ऐतिहासिक नारों/उद्धरणों को तोड़मरोड़ कर पढ़ाने का बीएसपी तीव्र विरोध करती है व उसे तत्काल वापस लेने की मांग करती है।”

बता दें कि, अभी हाल ही में बसपा के एक विधायक राजेंद्र गुढ़ा ने पार्टी में टिकटों को बेचे जाने का आरोप लगाया था। विधानसभा में राष्ट्रमंडल संसदीय संघ (राजस्थान शाखा) एवं लोकनीति- सीएसडीएस की संगोष्ठी के दौरान विधायक ने टिकटों के बेचे जाने का खुलासा किया था।

संगोष्ठी के तकनीकी सत्र के दौरान पैनल के एक सदस्य से प्रश्न करते हुए बसपा विधायक राजेंद्र गुढ़ा ने कहा कि हमारी पार्टी में टिकट देने के बदले में धन लिया जाता है और यदि कोई ज्यादा धन देता है तो टिकट उसे दे दिया जाता है और यदि कोई तीसरा व्यक्ति और ज्यादा धन देने की पेशकश करता है तो टिकट उसको दे दिया जाता है… इसका कोई समाधान है क्या? बसपा विधायक के आश्चर्यचकित बयान पर पैनल ने कोई उत्तर नहीं दिया लेकिन पैनल सदस्यों में शामिल प्रतिपक्ष के उपनेता राजेन्द्र राठौड़ ने कहा कि इसका उत्तर सीधा उन्हें मायावती से लेना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here