रामदेव ने की मांग, बोले- 23 मई को ‘मोदी दिवस’ के रूप में मनाया जाए

0

लोकसभा चुनाव में भारी जीत के बाद केंद्र सत्ता पर आसान होने के बाद भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में नई सरकार के गठन की तैयारियां चली रही हैं। इस बीच योग गुरु बाबा रामदेव ने 23 मई को ‘मोदी दिवस’ के रूप में मनाने की वकालत की है। दरअसल, लोकसभा चुनाव के नतीजे इसी दिन आए, जिसमें भाजपा को अकेले 303 सीटें मिलीं और उसके नेतृत्व वाले गठबंधन राजग को 353 सीटों पर सफलता मिली है।

रामदेव
File Photo: Reuters

रामदेव ने भाजपा द्वारा भारी जनादेश के साथ केंद्र की सत्ता में वापसी करने वाले दिन 23 मई को ऐतिहासिक बताया। बाबा रामदेव ने कि इस दिन को ‘मोदी दिवस’ या ‘जनकल्याण दिवस’ के रूप में मनाया जाना चाहिए। दिल्ली-एनसीआर में अमूल और मदर डेयरी द्वारा दूध के दामों दो और एक रूपये की बढ़ोतरी करने के बाद बाबा रामदेव ने ‘टोंड दूध’ नाम से सस्ता दूध लॉन्च किया है। इसके साथ ही उन्होंने गाय के मक्खन से बने कुछ अन्य खाद्य उत्पाद भी लॉन्च किए है।

बाबा रामदेव पतंजलि योगपीठ में पतंजलि के डेयरी उत्पाद लांच करने के बाद कहा, ’23 मई का दिन ऐतिहासिक दिन है। इसे ‘मोदी दिवस’ अथवा ‘जनकल्याण दिवस’ के रूप में मनाया जाना चाहिए।’ उन्होंने कहा कि गाय के दूध से बने पतंजलि उत्पाद जैसे टोंड दूध, मक्खन, पनीर, लस्सी, छाछ आदि उत्पादों का उत्पादन उच्च गुणवत्ता के साथ शुरू हो गया है।

उन्होंने दावा किया कि ये सभी उत्पाद अमूल और मदर डेयरी से उच्च गुणवत्ता के साथ-साथ सस्ते भी हैं। स्वामी रामदेव ने कहा कि पतंजलि उत्पादों में किसी प्रकार का बाहरी तत्व या रसायन नहीं मिलाया जाता है। उन्होंने बताया कि पतंजलि डेयरी उत्पादों की दिल्ली, एनसीआर, उत्तराखंड, मुंबई, पुणे और राजस्थान में आपूर्ति की जा रही है जबकि देश के दूसरे हिस्सों में आपूर्ति की योजना बनाई जा रही है। स्वामी रामदेव ने कहा कि इन उत्पादों के लिये सीधे किसानों से दूध लिया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here