VIDEO: रेप की घटनाओं पर हरियाणा के CM खट्टर का शर्मनाक बयान, बोले- “80-90 फीसदी घटनाएं जानकारों के बीच होती हैं और अनबन हो तो करवा देती हैं FIR”

0

रेप की घटनाओं पर हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने शर्मनाक बयान दिया है। मुख्यमंत्री खट्टर का एक वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। वायरल वीडियो में खट्टर ने गुरुवार (15 नवंबर) को एक कार्यक्रम के दौरान रेप की घटनाओं के लिए सीधे तौर पर लड़कियों को ही जिम्मेदार ठहरा दिया। अपने शर्मनाक बयान को लेकर खट्टर विपक्ष के निशाने पर आ गए हैं। सोशल मीडिया पर भी खट्टर की तीखी आलोचना हो रही है। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने खट्ट के कथित बयान का वीडियो शेयर कर ‘महिला विरोधी’ बताते हुए कहा है कि खट्टर को इसके लिए माफी मांगनी चाहिए।

file photo

मनोहर लाल खट्टर ने कहा, “रेप की घटनाए बढ़ी नहीं है, पहले भी ऐसी घटनाए होती थी और आज भी होती हैं। सबसे बड़ी चिंता यह है कि रेप और छेड़छाड़ की घटनाएं 80 से 90 फीसदी जानकारों के बीच में होती हैं। एक दूसरे को जानते हैं. बहुत घटनाएं तो ऐसी होती है जिसमें काफी समय तक इकट्ठे घुमते रहते हैं और एक दिन थोड़ी गड़बड़ हो गई, तो उस दिन उठाकर के एफआईआर करवा देते हैं कि इसने मुझे रेप किया।”

खट्टर के इस शर्मनाक बयान पर कांग्रेस ने जमकर हमला बोला है। कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने शनिवार को खट्टर के इस बयान को वीडियो ट्वीट कर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री खट्टर ने रेप के संदर्भ में ”महिला विरोधी” टिप्पणी की है इसके लिए उन्हें माफी मांगनी चाहिए।

सुरजेवाला ने ट्विटर पर खट्टर के बयान का वीडियो शेयर करते हुए लिखा है, “हरियाणा के CM खट्टर जी की निन्दनीय टिप्पणी- “रेप की अधिकतम घटनायें उनके साथ होतीं है जो लड़कों के साथ उठती-बैठतीं व घूमती-फिरतीं है” बढ़ते रेप व गैंगरेप की घटनाओं का दोष महिलाओं के चरित्र पर मढ़ना बेहद शर्मनाक! माफ़ी माँगे CM,”

वहीं, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद ने भी खट्टर के बयान की निंदा की है। केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, “अगर किसी प्रदेश के CM ऐसा सोचते हैं, तो वहाँ लड़कियाँ सुरक्षित कैसे हो सकती हैं? CM साहिब रेप को justify कर रहे हैं। यही कारण है की हरियाणा में रेप बढ़ रहे हैं और बलात्कारी पकड़े नहीं जाते, खुले घूम रहे हैं।”

बाद में दी सफाई

बयान में लड़कियों को रेप के लिए जिम्मेदार ठहराने को लेकर हुई आलोचना के बाद खट्टर ने कहा है कि मेरा बयान एक फैक्ट है जो जांच के बाद आया है। खट्टर सफाई देते हुए कहा, ‘मैंने सहमति नहीं कहा, मैंने बिटवीन नोन कहा। यह मेरी ओर से कही गई बात नहीं है, यह इन्वेस्टिगेशन से आया फैक्ट है। इससे सामाजिक तौर पर डील करना चाहिए, इसमें राजनीति नहीं देखनी चाहिए।’

आपको बता दें कि इससे पहले भी मुख्यमंत्री खट्टर ने महिलाओं को लेकर एक विवादित बयान दिया था। साल 2014 में उन्होंने कहा था कि लड़कियों को रेप से बचने के लिए ढंग से कपड़े पहनने चाहिए। वहीं, रेप की कई घटनाएं सामने आने के बाद मुख्यमंत्री खट्टर ने इन मामलों की सत्यता पर ही सवाल खड़ा कर दिया था। उन्होंने कहा था, ‘घटना को बिना वेरिफाई किए हुए जो सनसनती फैलती है, वह सनसनी नहीं फैलानी चाहिए।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here