मुश्किल में फंसे बच्चों को अब बटन दबाते ही मिलेगी मदद : मेनका गांधी

0

चाइल्ड लाइन सेंटर के कामकाज की समीक्षा करने के लिए गुड़गांव पहुंची केंद्रीय बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने बताया कि महिला और बाल विकास मंत्रालय जल्द ही मोबाइल फोन में अब बच्चों के लिए चाइल्ड लाइन एप लाने पर तेजी से काम कर रहा है।

443213-manekagandhipti650

मेनका के मुताबिक चाइल्ड लाइन फाउंडेशन के सहयोग से इस एप को तैयार किया जा रहा है और इस एप को डाउनलोड करने के बाद अगर बच्चा बटन दबाता है तो पेरेंट्स के साथ-साथ चाइल्ड लाइन सेंटर पर भी कॉल दर्ज हो जाएगी और मदद के लिए तुरंत टीम बच्चे तक पहुंच पाएगी।

Also Read:  अनाधिकृत निर्माण ने दिल्ली की खूबसूरती में लगाया कलंक, रहने के लिहाज से दिल्ली खतरनाक शहर: उच्च न्यायालय

गौरतलब है कि चाइल्ड लाइन 1098 की सुविधा काफी साल से चल रही है. लेकिन पिछले 18 महीनों से बाल एंव महिला विकास मंत्रालय ने इसमें अपनी भागीदारी तय की है और इसमें कई सुधार हुए हैं।

Also Read:  दल खालसा ने ‘पवित्र शहर दर्जा’ टिप्पणी को लेकर केजरीवाल पर साधा निशाना

आज तक के मुताबिक मेनका गांधी ने बताया कि इस साल मार्च महीने में 10 लाख से ज्यादा बच्चों और बड़ों ने चाइल्ड लाइन में फोन किया।

इस चाइल्ड लाइन में फोन बजते ही 6 सेकेंड में ये पता कर लिया जाता है कि शिकायत कहां से आ रही है अगर शिकायतकर्ता पंजाब से है तो पंजाबी भाषा में निपुण काउंसलर उससे बात करेगी और अगर तमिलनाडु से तो तमिल भाषा की जानकार उसकी समस्या सुनेगी. इस समय चाइल्ड लाइन में 25 भाषाओं में निपुण काउंसलर हैं।

Also Read:  2008 के मालेगांव ब्लास्ट मामले मे आरोपी कर्नल पुरोहित को सुप्रीम कोर्ट ने दी जमानत

लेकिन बहुत सी कॉल में बच्चों को काउन्सलिंग की नहीं बल्कि तुरंत मदद की जरूरत पड़ती है और इसके लिए देशभर में चाइल्ड लाइन से जुड़े एनजीओ पुलिस की मदद से बच्चों तक पहुंचते हैं। पिछले एक साल में इस चाइल्ड लाइन ने 2.5 लाख बच्चों को रेस्क्यू करवाया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here