कोलकाता मेट्रो के दरवाजे में हाथ फंसने से यात्री की दर्दनाक मौत, सीएम ममता बनर्जी ने दिए हाई-लेवल जांच के आदेश

0

कोलकाता मेट्रो के दरवाजे में हाथ फंसने से शनिवार को एक 56 वर्षीय यात्री की दर्दनाक मौत हो गई। बताया जा रहा है कि मेट्रो चल पड़ी, मगर यात्री का हाथ अंदर फंसा रहा और शरीर बाहर झूलता रहा। पीड़ित यात्री सजल कांजीलाल दक्षिणी कोलकाता के कसबा इलाके का रहने वाला था। बेहोश सजल को एसएसकेएम अस्पताल ले जाया गया, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया।

(Photo: ANI)

पीटीआई के मुताबिक, मेट्रो रेलवे के एक प्रवक्ता ने कहा, “पार्क स्ट्रीट स्टेशन पर शाम छह बजकर 42 मिनट पर एक दुर्घटना हुई। कबी सुभाष जाने वाली ट्रेन में सवार होने के दौरान एक यात्री का हाथ दरवाजों के बीच फंस गया।” उन्होंने कहा, “मेट्रो के महानिदेशक पी सी शर्मा ने दरवाजों के सेंसरों के काम नहीं करने समेत तमाम अन्य लापरवाहियों के पीछे के कारणों का पता लगाने के लिए उच्च स्तरीय जांच के आदेश दिए हैं।”

प्रवक्ता ने बताया कि ट्रेन को तत्काल रोका गया और उसकी बिजली आपूर्ति बंद की गई। यात्रियों को ट्रेन से उतारा गया। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने घटना को “अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण” बताया है और पुलिस जांच के आदेश दिए हैं। साथ ही उन्होंने शहरी विकास मंत्री एवं कोलकाता के महापौर फरहाद हाकिम को मौके पर पहुंचने और कंजीलाल के परिवार को सरकार से पूर्ण सहयोग मिलने का आश्वासन देने को कहा।

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि अधेड़ उम्र के यात्री सजल ने शाम करीब 6.40 बजे कवि सुभाष नगर जाने वाली मेट्रो में पार्क स्ट्रीट स्टेशन पर चढ़ने का प्रयास किया, मगर भारी भीड़ के कारण अंदर घुस नहीं सका। सिर्फ उसका हाथ अंदर घुसा रह गया और मेट्रो बाहर झूलते उसके शरीर को अगले स्टेशन तक घसीटती ले गई।

बताया जा रहा है कि इस घटना के बाद मेट्रो स्टेशन में हड़कंप मच गया। जानकारी मिलने के बाद आसपास भीड़ जुटने लगी। मेट्रो प्राधिकरण की ओर से मामले का संज्ञान लेते हुए एक जांच समिति गठित करने के साथ ही उच्च स्तरीय जांच के निर्देश भी दिए गए हैं। यह टीम घटना से जुड़े हर पहलू की छानबीन करेगी।

समाचार एजेंसी आईएएनएस के मुतबिक, इस हादसे के बाद मेट्रो ट्रेन के मोटरमैन और गार्ड को निलंबित कर दिया गया है। मेट्रो के प्रवक्ता ने कहा कि कोलकाता मेट्रो के 35 साल के इतिहास में ऐसी घटना पहली बार हुई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here