कोलकाता में ममता बनर्जी की ‘महारैली’: विपक्षी दलों ने दिखाया दम, मोदी सरकार पर जमकर बोला हमला

0

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के नेतृत्व में नरेंद्र मोदी सरकार के खिलाफ आज यानी शनिवार (19 जनवरी) को कोलकाता में महारैली का आयोजन किया गया है। इस रैली के बारे में तृणमूल कांग्रेस का कहना है कि यह आगामी लोकसभा चुनावों में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के लिए ‘‘ताबूत में आखिरी कील’’ होगी।

पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवगौड़ा, उनके बेटे एवं कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू, शरद पवार, फारुक अब्दुल्ला, शरद यादव, अरविंद केजरीवाल, अखिलेश यादव, तेजस्वी यादव, हार्दिक पटेल, जिग्नेश मेवानी, कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, डीएमके चीफ एमके स्टालिन, पूर्व बीजेपी नेता अरुण शौरी, हेमंत सोरेन एवं अरुणाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री गेगोंग अपांग समेत 20 से अधिक राष्ट्रीय नेता इस रैली में शामिल हुए हैं।

भले ही बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अध्यक्ष मायावती रैली में शामिल नहीं होंगी लेकिन पार्टी के वरिष्ठ नेता सतीश चंद्र उनकी ओर से मौजूद रहेंगे। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी रैली को अपना समर्थन दिया है। लोकसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे एवं अभिषेक मनु सिंघवी रैली में कांग्रेस का प्रतिनिधित्व कर सकते हैं।

रैली की भारी सफलता को सुनिश्चित करने के लिए बड़े पैमाने पर तैयारियां की गई हैं। बड़े-बड़े मंचों के अलावा, 20 टॉवर खड़े गए हैं और 1,000 माइ्क्रोफोन एवं 30 एलईडी स्क्रीन लगाई गई हैं ताकि दर्शक नेताओं को साफ तौर पर देख एवं सुन सकें। सुरक्षा के पुख्ता इंतजामों के लिए रैली वाले स्थान के अंदर एवं आस-पास 10,000 सुरक्षाकर्मियों की तैनाती की जाएगी और 400 पुलिस पिकेट लगाए जाएंगे।

राज्य भर से तृणमूल कांग्रेस के लाखों समर्थक एवं कार्यकर्ता शहर पहुंच रहे हैं। पुलिस ने बताया कि रैली स्थान के आस-पास वाहनों की आवाजाही प्रतिबंधित कर दी गई है।

यहां पढ़ें रैली का LIVE अपडेट:

  • रैल को संबोधित करते हुए तेजस्वी यादव ने कहा कि बीजेपी को ‘भगाओ, देश को बचाओ’। उन्होंने कहा कि मेरे पिता को साजिश के तहत फंसाया, क्योंकि हम उनके सामने झुके। तेजस्वी ने कहा कि मोदी चौकीदार हैं, तो देश की जनता थानेदार है, उन्हें छोड़ेगी। तेजस्वी ने कहा कि मोदी जी झूठ बोलने की फैक्ट्री हैं।
  • रैल को संबोधित करते हुए बीजेपी के वरिष्ठ नेता शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि अगर सच बोलना बगावत है तो हां मैं बागी हूं। उन्होंने कहा कि मैं बीजेपी को आइना दिखाने की कोशिश करता हूं। शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि अटल विहारी वाजपेयी के जमाने में लोकशाही थी और इस जमाने में तानाशाही है। उन्होंने कहा कि नोटबंदी और जीएसटी भी इसका एक नमुना था।मंच से शत्रुघ्न सिन्हा ने राहुल गांधी की तारीफ की। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी ने तीन राज्यों में चुनाव जीतकर शानदार मिसाल पेश की है। शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि राहुल गांधी जीएसटी को गब्बर सिंह टैक्स कहते हैं। जीएसटी ने लोगों को बर्बाद कर दिया इसे यही कहा जा सकता है।

    राफेल डील को लेकर शत्रुघ्न सिन्हा ने पीए मोदी पर सीधे हमला बोला। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार राफेल सौदे को छिपाने की कोशिश कर रही है। शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि अगर आप इसे छिपाएंगे तो लोग यही कहेंगे कि चौकीदार चोर है।

  • रैली को संबोधित करते हुए डीएमके प्रमुख एमके स्टालिन ने मंच से ‘मोदी हटाओ, देश बचाओ’ का नारा लगाया। अपने संबोधन में स्टालिन ने मोदी सरकार की कड़ी आलोचना की। उन्होंने कहा कि मई महीने में होने वाला लोकसभा चुनाव देश का दूसरा स्वतंत्रता संग्राम होगा।
  • रैली को संबोधित करते हुए जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि हम एक नया हिंदुस्तान बनाएंगे। उन्होंने कहा कि हम ऐसा हिंदुस्तान बनाएंगे जहां सभी लोग एक साथ मिलकर रह सकें। फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि जिन संस्थाओं को मौजूदा सरकार ने बर्बाद किया है उसे हम ठीक करेंगे। उन्होंने मंच से ईवीएम को हटाकर बैलट पेपर से आगामी चुनाव कराने की मांग की।
  • रैली को संबोधित करते हुए शरद यादव ने कहा कि मोदी सरकार ने देश की संस्थाओं को बर्बाद कर दिया है। उन्होंने कहा कि एक भी संस्थान नहीं बचा है, जिसे मोदी सरकार ने बर्बाद नहीं किया है।
  • रैली को संबोधित करते हुए अरुण शौरी ने कहा कि राफेल जैसा घोटाला किसी सरकार में नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार जैसी झूठ बोलने वाली सरकार कभी नहीं आई। इस सरकार ने हर संस्था को बर्बाद करने की जिद पकड़ रखी है।
  • रैली को संबोधित करते हुए यशवंत सिन्हा ने कहा कि विकास के बदले बीजेपी ने सबका नाश किया है। उन्होंने कहा कि हम सब मिलकर बीजेपी को सत्ता से बाहर करेंगे। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने हर लोकतांत्रिक व्यवस्था को बर्बाद करने में लगी है, मोदी को मुद्दा न बनाएं, मुद्दों को मुद्दा बनाएं। उन्होंने कहा कि यह लड़ाई लोकतंत्र बचाने की है।यशवंत सिन्हा ने कहा, मेरा एक उद्देश्य है, एक लड़ाई बाकी है वो है इस सरकार को सत्ता से बाहर करना। इसके लिए जरूरी है कि मंच पर मौजूद नेता तय करें कि बीजेपी उम्मीदवार के खिलाफ हर सीट पर सिर्फ एक उम्मीदवार खड़ा होगा। आने वाले दिनों में हम एकजूट होकर लोकसभा चुनाव लड़ेंगे।
  • अरुणाचल प्रदेश के पूर्व सीएम गोगांग अपांग ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि पिछले चार सालों में भारतीय लोकतंत्र बुरे दौर से गुजरा है। उन्होंने कहा कि बीते चार सालों में भारतीय लोकतंत्र का कई बार परीक्षण किया गया। बता दें कि अभी कुछ दिन पहले ही गोगांग अपांग ने बीजेपी से इस्तीफा दिया था।
  • झारखंड मुक्ति मोर्चा के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि क्षेत्रीय दल सांप्रदायिक ताकतों को जवाब देंगे। सोरेन बीजेपी पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार में दलितों और आदिवासियों का शोषण हो रहा है।
  • रैली को संबोधित करते हुए गुजरात के विधायक जिग्नेश मेवानी ने कहा कि देश आज बुरे दौर से गुजर रहा है। सभी पार्टियां बीजेपी और आरएसएस को हराने के लिए एक साथ आई हैं।
  • पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने विपक्षी एकजुटता रैली में कहा कि देश को बचाने के लिए विपक्ष एकजुट है। उन्होंने यह भी कहा कि सुभाष बाबू (सुभाष चंद्र बोस) लड़े थे गोरों से, हम लड़ेंगे चोरों से।

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here