मालदीव में 30 दिवसीय आपातकाल घोषित

0

मालदीव सरकार ने देश की सुरक्षा और जन सुरक्षा के मद्देनजर देशभर में 30 दिनों के लिए आपातकाल की घोषणा कर दी है, जो स्थानीय समयानुसार बुधवार दोपहर 12 बजे से लागू हो गई है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रपट के मुताबिक, अटॉर्नी जनरल मोहम्मद अनिल ने मालदीव के राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन के फैसले की घोषणा की। हाल ही में आग्नेयास्त्रों और विस्फोटकों के मिलने के बाद राष्ट्रपति ने राष्ट्रीय सुरक्षा समिति की सलाह पर यह फरमान जारी किया है।

Also Read:  राहुल गांधी पर ट्वीट करने के बाद सोशल मीडिया यूजर्स के निशाने पर आए कुमार विश्वास

यह घोषणा मुख्य विपक्षी दल मालदीवियन डेमोक्रेटिक पार्टी (एमडीपी) की प्रस्तावित व्यापक विरोध प्रदर्शन की योजना से दो दिन पहले की गई है। पार्टी के नेता मोहम्मद नशीद आतंकवाद रोधी कानून के तहत दोषी ठहराए जाने के बाद जेल में हैं।

2013 के फ्रीडम ऑफ एसेंबली अधिनियम को निलंबित कर दिया गया है।

मालदीव के संविधान के अनुच्छेद 254 के अंतर्गत आपातकाल की स्थिति मेंकानूनों को अस्थायी रूप से निलंबित किया जा सकता है और कुछ मौलिक अधिकार और स्वतंत्रता छीनी जा सकती है।

Also Read:  राजौरी गार्डन की हार: दिल्ली के मुख्यमंत्री को 2015 के पहले का अरविन्द केजरीवाल बनना होगा, वर्ना....

राष्ट्रपति या उपराष्ट्रपति पर महाभियोग चलाने के किसी प्रस्ताव पर मतदान से पूर्व, संविधान द्वारा प्रदत्त, 14 दिनों के नोटिस की अवधि को घटाकर सात दिन कर दिया गया है।

सत्तारूढ़ दल ने 28 अक्टूबर को उपराष्ट्रपति अहमद अदीब पर महाभियोग चलाने का प्रस्ताव पेश किया था।

Also Read:  OBC की सूची में 15 नई जातियों को शामिल करने की मंजूरी

अदीब को 28 सितम्बर को राष्ट्रपति की मोटरबोट में विस्फोट में लिप्त होने के संदेह में गिरफ्तार कर लिया गया है। सरकार का कहना है कि राष्ट्रपति को निशाना बनाने के लिए इस्तेमाल किए गए बम से विस्फोट हुआ था।

राष्ट्रपति के सरकारी आवास के समीप भी एक अन्य विस्फोटक बरामद हुआ था, जिसे सेना से निष्क्रिय कर दिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here