जानिए क्यों, दिल्ली छोड़ सूरत जाने को मजबूर हुईं राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पौत्रवधू

0

देश की राजधानी दिल्ली के माहौल से परेशान होकर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पौत्र वधू डॉक्टर शिवा लक्ष्मी गांधी दिल्ली छोड़कर चली गईं है। ख़बरों के मुताबिक, वह पिछले कुछ दिनों से दिल्ली के माहौल से परेशान थीं और करीब 20 दिन पहले वह दिल्ली छोड़कर सूरत चली गईं है।

महात्मा गांधी

नवभारत टाइम्स.कॉम की रिपोर्ट के मुताबिक, वह पिछले एक साल से गुमनामी की जिंदगी जी रही थीं। पिछले एक साल से वह कादीपुर में हरपाल राणा के यहां रहने आई थीं। नवंबर 2016 में पति कनु गांधी की मृत्यु के बाद अकेले जिंदगी बिता रही 95 साल की डॉक्टर शिवा लक्ष्मी गांधी का इरादा था कि बची हुई जिंदगी दिल्ली में ही बिताएंगी। लेकिन पिछले कुछ समय से वह दिल्ली के माहौल से परेशान थीं और करीब 20 दिन पहले वह दिल्ली छोड़कर सूरत चली गईं। वहीं उनके पति कनु गांधी ने अंतिम सांस ली थी, वहां एक वृद्धाश्रम उनका नया ठिकाना है।

रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली एयरपोर्ट पर भी बोलकर गईं, ‘माहौल ठीक नहीं है।’ एनबीटी से फोन पर बात करते हुए उन्होंने अपनी कई सारे बाते शेयर की। साथ ही उन्होंने कहा कि ‘अब मैं बापूजी के कार्यों में लगूंगी।’

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के पौत्र कनु गांधी और पौत्रवधू डॉ. शिवा लक्ष्मी गांधी 2 साल पहले सुर्खियों में आई थीं। जब मालूम चला गांधी दंपति के पास रहने को छत तक नहीं है और दिल्ली में एक ओल्ड एज होम में रहने को मजबूर हैं। कनु गांधी राष्ट्रपिता के तीसरे बेटे रामदास की इकलौती संतान हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here