अलवर हत्याकांड: बीजेपी विधायक बोले- गाय को ‘राष्ट्र माता’ का दर्जा नहीं मिलने तक नहीं रुकेगी मॉब लिंचिग की घटनाएं

0

राजस्थान के अलवर में गो तस्कर होने के संदेह के चलते पहलू खान के बाद अब अकबर खान उर्फ रकबर खान की पीट-पीटकर हत्या के मामले ने तूल पकड़ लिया है। इस हत्याकांड को लेकर जारी घमासान के बीच तेलंगाना से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) विधायक ने कहा कि जब तक गाय को ‘राष्ट्र माता’ का दर्जा नहीं मिलता तब तक पीट-पीटकर मारने जैसी घटनाएं नहीं रुकेंगी। गौरतलब है कि अलवर में रकबर खान को कथित गो तस्करी के आरोप में पीट-पीटकर मार डाला गया था।

(फोटो: फेसबुक)

समाचार एजेंसी भाषा के मुताबिक गोशामहल से बीजेपी विधायक टी राजा सिंह लोध ने रविवार को सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट पर एक वीडियो मेसेज में कहा कि वह नहीं चाहते कि इस तरह का खून खराबा हो लेकिन यदि इसे रोकना चाहते हैं तो गाय को ‘राष्ट्र माता’ घोषित किया जाए। सात मिनट की क्लिप में विधायक ने सांसदों से अनुरोध किया कि इस तरह की मांग संसद में भी उठाएं।

सिंह ने कहा, ‘मेरा मानना है कि जब तक गाय को ‘राष्ट्र माता’ का दर्जा नहीं दिया जाता है, तब तक गोरक्षा की लड़ाई नहीं रुकेगी। चाहे गोरक्षकों को जेल में डाल दें या उन पर गोली चलाएं।’ उन्होंने कहा कि वह कभी भी गोरक्षकों द्वारा किसी व्यक्ति की हत्या का समर्थन नहीं करते हैं। हालांकि, आलोचना करने वाला कोई भी व्यक्ति गाय के संरक्षण और इस तरह की हिंसा को रोकने की बात नहीं करता।

जब तक गौ हत्या पर

जब तक गौ हत्या पर प्रतिबंद नही लगेगा और गौ माता को राष्ट्र माता घोषित नही किया जाता तब तक हिंसक घटनाएं होते ही रहेंगी।Jab Tak Gau Hatya Par Pratibandh Nahi Lagta Aur Gau Mata Ko Rastriya Mata Ghoshit Nahi Kiya Jaata Tab Tak Aisi Hinsak Ghatnaye Hoti Rahengi.

Posted by Raja Singh on Sunday, 22 July 2018

जारी है बीजेपी नेताओं और मंत्रियों का अजीबोगरीब बयानबाजी

बता दें कि इससे पहले मंगलवार को राजस्थान में बीजेपी के मंत्री जसवंत सिंह ने कहा, ‘मैं मुस्लिमों से हिंदुओं की भावनाओं का सम्मान करने की अपील करता हूं। उन्हें गोतस्करी करना बंद कर देना चाहिए।’ वहीं रकबर की मौत पर मंत्री ने कहा, ‘जहां तक रकबर की मौत का सवाल है, मैं शोक व्यक्त करता हूं और जो लोग कानून अपने हाथ में लेते हैं मैं उनके खिलाफ खड़ा हूं।’

लिचिंग के शिकार रकबर खान को स्‍थानीय बीजेपी विधायक ज्ञानदेव आहूजा ने अक्‍सर गो-तस्‍करी करने वाला करार दिया था। उन्‍होंने यह भी कहा कि रकबर खान की पुलिस हिरासत में मौत के बाद अब पुलिस ‘हिंदू ग्रामीणों को फंसा’ रही है। बीजेपी विधायक का यह बयान ऐसे समय पर आया है जब पूरे देश में इस हत्‍याकांड की आलोचना हो रही है और अकबर के परिवारवालों ने उसे निर्दोष बताया है।

क्या है मामला?

बता दें कि राजस्थान के अलवर जिले में शुक्रवार-शनिवार की दरमियानी रात हुई घटना के अनुसार, गाय की तस्करी करने के संदेह में कुछ व्यक्तियों के समूह ने रकबर खान की कथित रूप से पीट पीट कर हत्या कर दी थी। अलवर के लालवंडी गांव में रकबर और उसका साथी असलम दो गाय लेकर हरियाणा जा रहे थे। तभी कुछ लोगों ने रकबर को पकड़कर उसकी बुरी तरह पिटाई कर दी। असलम भागने में कामयाब रहा। पुलिस घटनास्थल पहुंची लेकिन उसे अस्पताल ले जाने में दो-ढाई घंटे की देरी हुई। अस्पताल ले जाने पर चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

यह घटना अलवर में ही करीब सवा साल पहले डेयरी किसान पहलू खां की स्वयंभू गौ रक्षकों द्वारा पीट पीट कर हत्या किये जाने की घटना के बाद हुई है। इस घटना के वक्त एक अप्रैल, 2017 को पहलू खां मवेशी को हरियणा स्थित अपने गांव ले जा रहा था। पहलू खां की दो दिन बाद मृत्यु हो गयी थी। पिछले एक साल से अधिक समय से राजस्थान के अलवर शहर में इस तरह के हमले की अनेक घटनायें हुयीं हैं जिनमें स्वयंभू गौ रक्षकों ने गायों को एक स्थान से दूसरे स्थान ले जा रहे लोगों को अपना निशाना बनाया है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here