2016 के सर्जिकल स्ट्राइक के प्रमुख रहे लेफ्टिनेंट जनरल डीएस हुड्डा ने कहा, इस हवाई हमले के लिए पीएम मोदी को बधाई दी जानी चाहिए

0

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को हुए आतंकी हमले का भारत ने बदला लिया है। भारतीय वायुसेना के जवानों ने एलओसी के पार जाकर आतंकी कैंप पर हमला बोला और उनके कई आतंकवादी कैंपों को ध्वस्त कर दिया है। मीडिया में भारतीय एयरफोर्स के सूत्रों के हवाले से बताया जा रहा है कि भारत के लड़ाकू विमानों ने सुबह 3:30 मिनट पर बालाकोट के पास जैश-ए-मोहम्मद के एक कैंप पर हमला करके उसे तबाह कर दिया।

डीएस हुड्डा
फाइल फोटो

सूत्रों के अनुसार, भारतीय वायुसेना से 26 फरवरी को सुबह साढ़े 3 बजे 12 मिराज 2000 भारतीय लड़ाकू जेट विमानों ने एलओसी के पार जाकर आतंकवादी कैंपों पर निशाना बनाया और इसे पूरी तरह बर्बाद कर दिया। ANI के मुताबिक भारतीय वायुसेना के सूत्रों ने बताया कि 26 फरवरी को 03:30 बजे (25 फरवरी की देर रात) भारतीय वायुसेना के मिराज 2000 लड़ाकू विमानों ने नियंत्रण रेखा के पार एक बड़े आतंकवादी कैंप पर हमला बोला और उसे पूरी तरह तबाह कर दिया…’

इस बीच, साल 2016 में उरी हमले के बाद पाकिस्तान पर किए गए सर्जिकल स्ट्राइक के कमांडिंग ऑफिसर रहे लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) डीएस हुड्डा ने मंगलवार को पाकिस्तान के खिलाफ कार्रवाई के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा की है।

उन्होंने एबीपी न्यूज से बात करते हुए कहा, भारतीयों को चिंता करने की जरूरत नहीं है। भारतीय सेना पाकिस्तान पर उस घटना का जवाब देने में पूरी तरह सक्षम है जो भारत पर हमला करती है। यह पूछे जाने पर कि क्या इस कार्रवाई के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई देना चाहिए। इसका जवाब देते हुए जनरल हुड्डा ने कहा, बिल्कुल, सभी लोग बधाई के पात्र हैं। उन्होंने जिस तरह से योजना बनाई और इस ऑपरेशन को अंजाम दिया, उसके लिए सभी बधाई के पात्र हैं।

बता दें कि लेफ्टिनेंट जनरल डीएस हु़ड्डा (रिटायर्ड) उरी में सेना के कैंप पर हुए आतंकी हमले और इसके बाद 29 सितंबर 2016 को पाकिस्तान पर हुए सर्जिकल स्ट्राइक के वक्त नॉर्दन कमांड के जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ थे और पूरे ऑपरेशन के अगुआ थे। वे नवंबर 2016 में सेवानिवृत्त हो गए थे।

कुछ महीने पहले ही रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल ने सर्जिकल स्ट्राइक के प्रचार किए जाने की आलोचना की थी। डीएस हुड्डा ने कहा था कि ये हमला जरूरी था, लेकिन वे नहीं मानते कि इसका अधिक प्रचार किया जाना चाहिए।

भारत ने पाकिस्तान में किया हवाई हमला

ऐसा माना जा रहा है कि भारत ने मंगलवार तड़के पाकिस्तान के भीतर हवाई हमले कर कई आतंकवादी शिविरों को निशाना बनाया। सूत्रों ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया कि भारतीय वायुसेना के विभिन्न लड़ाकू विमानों ने खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के बालाकोट में पाकिस्तान स्थित कई आतंकवादी समूहों के शिविरों को सफलतापूर्वक नष्ट कर दिया। अभी तक हमले से हुए नुकसान का आकलन नहीं हुआ है।

पाकिस्तान की सेना ने मंगलवार को आरोप लगाया कि भारतीय वायुसेना ने मुजफ्फराबाद सेक्टर में नियंत्रण रेखा (एलओसी) का उल्लंघन किया है। सेना की मीडिया शाखा अंतर-सेवा जन संपर्क (आईएसपीआर) के महानिदेशक मेजर जनरल आसिफ गफूर ने ट्वीट किया है, ‘भारतीय वायुसेना के विमान मुजफ्फराबाद सेक्टर से घुसे। पाकिस्तानी वायुसेना की ओर से समय पर और प्रभावी जवाब मिलने के बाद वह जल्दीबाजी में अपने बम गिरा कर बालाकोट के करीब से बाहर निकल गए। जानमाल को कोई नुकसान नहीं हुआ है।’

उन्होंने लिखा है, ‘‘भारतीय वायुसेना ने नियंत्रण रेखा का उल्लंघन किया है। पाकिस्तानी वायुसेना ने तुरंत जवाब दिया। भारतीय विमान लौट गए।’’ गौरतलब है कि यह आरोप जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को सीआरपीएफ के काफिले पर हुए जैश-ए-मोहम्मद के आत्मघाती हमले के बाद दोनों देशों में बढ़े तनाव के बीच लगाया गया है। हमले में सुरक्षा बल के 40 जवान शहीद हुए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here