मैसूर के शकील ने की हिन्दू लड़की अशिता से शादी, विहिप ने कहा ये लव जिहाद है

0

आपसी भाईचारे की मिसाल को तोड़ने के लिये विश्व हिन्दू परिषद की और से मैसूर में हुई दो सम्प्रदायों के युगल की शादी को लव जिहाद का नाम दिया जा रहा है। एमबीए ग्रैजुएट शकील अहमद ने रविवार को हिन्दू परिवार की लड़की अशिता से शादी कर सामाजिक सद्भाव की मिसाल पेश की जबकि विश्व हिन्दू परिषद इस शादी का घोर विरोध कर रहा हैं। पुलिस की भारी निगरानी के बीच कर्नाटक के मैसूर में एक सामुदायिक केन्द्र में शकील और अशिता शादी के बंधन में बंध गए।

Also Read:  पाकिस्तानी स्कूल समूह ने पंजाबी भाषा पर लगाई पाबंदी, बच्चों के लिए बताई ‘खराब भाषा’

दक्षिण के कई सारे हिन्दू संगठन इस शादी का विरोध काफी समय से कर रहे थे और इस शादी के बंधन को जबरदस्ती लव जिहाद बनाने पर लगे हुए थे। शादी में दोनों परिवार वालों की और से सुरक्षा के मद्देनजर भारी पुलिस बल लगाया गया था जिससे विहिप कोई गड़बड़ ना कर सकें। कर्नाटक में वीएचपी सेक्रेट्री बी सुरेश ने कहा- यह लव जिहाद है। अगर यह प्यार है तो हमें कोई आपत्ति नहीं, लेकिन यह मामला जबरदस्ती का लग रहा है। हमें लगता है कि शकील जोकि मुस्लिम है, अशिता, जोकि हिन्दू है, से विवाह करके धर्म परिवर्तन करवाने वाला है।

Also Read:  मेनका गांधी ने भारत-नेपाल सीमा पर एसएसबी जवानों को राखियां बांधी

लेकिन शकील और अशिता के परिवारों के विहिप की चाल को कामयाब नहीं होने दिया। अशिता के पिता नरेंद्र बाबू ने शादी स्थल पर जाते हुए कहा- भारत में हम सब समान हैं.. यह विरोधियों को संदेश है। उन्हें यह समझना चाहिए। जब सब जश्न मना रहे हों और सिर्फ 0.01 फीसदी लोग विरोध कर रहे हों तो फर्क क्या पड़ता है।

Also Read:  उर्जित पटेल RBI के गवर्नर का कार्यभार संभाला, रघुराम राजन के जाने से एक युग का अंत

अशिता और शकील लम्बें समय से एक-दूसरे को जानते है। दोनों 28 साल के हैं और दोनों का ही परिवार मांड्या में काफी समय से है। परिवार का कहना है, दोनों स्कूल कॉलेज में क्लासमेट थे। एमबीए दोनों ने साथ किया और 12 साल तक प्रेम संबंध में रहे।

शादी शांतिपुर्ण तरीके से सम्पन हुई लेकिन विहिप ने शादी से पहले भी इसका विरोध किया था और पुलिस ने दो विरोध प्रदर्शनकर्ताओं को मांड्या में अरेस्ट किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here