हैदराबाद गैंगरेप-मर्डर केस: एनकाउंटर की जगह पर लोगों का तांता, पुलिस पर बरसाए फूल, देखें वीडियो

0

तेलंगाना में महिला पशु-चिकित्सक के साथ दुष्कर्म और हत्या मामले के सभी चारों आरोपी शुक्रवार तड़के साइबराबाद पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारे गए। चारों आरोपियों की पहचान मोहम्मद अरीफ, नवीन, शिव और चेन्नाकेसवुलु के रूप में हुई थी।

तेलंगाना

पुलिस ने दावा किया कि क्राइम सीन को रीक्रिएट करने के लिए चारों आरोपियों को हैदराबाद के बाहरी क्षेत्र शादनगर के समीप चटनपल्ली ले जाया गया था। इस दौरान चारों आरोपियों ने भागने की कोशिश और फिर पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारे गए। उन्होंने बताया कि मुठभेड़ उस स्थान से कुछ ही दूरी पर हुई जहां महिला पशु-चिकित्सक को जलाया गया था। पुलिस के सभी वरिष्ठ अधिकारी मुठभेड़ स्थल पर पहुंच गए हैं।

एनकाउंटर की खबर मिलते ही घटनास्थल पर लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा। जिसने यह खबर सुनी वह घटनास्थल पर ही निकल पड़ा और स्थिति यह हो गई कि पुलिस को लोगों को संभालने के लिए बड़ी संख्या में फोर्स तैनात करनी पड़ी है। यही नहीं घटनास्थल पर पहुंचे लोग पुलिस पर फूल बरसाते भी दिखे।

इस बीच पीड़िता के पिता और बहन समेत देश भर की कई बड़ी हस्तियों ने इस एनकाउंटर का समर्थन किया है। हैदराबाद गैंगरेप विक्टिम के पिता ने कहा कि, कि मेरी बेटी की मौत हुए 10 दिन हो चुके हैं। मैं इसके लिए पुलिस और सरकार के प्रति आभार व्यक्त करता हूं। मेरी बेटी की आत्मा को अब शांति मिलेगी। तेलंगाना के कानून मंत्री इंद्रकरण रेड्डी ने तो इसे भगवान न्याय बताते हुए कहा कि कानूनी प्रक्रिया शुरू होने से पहले ही भगवान ने उनके साथ न्याय किया।

हैदराबाद में जश्न, स्थानीय लोगों ने पुलिसकर्मियों के ऊपर बरसाए फूल

हैदराबाद में मुठभेड़ स्थल पर लोगों ने पुलिस के साथ जश्न मनाया है। यहां आज एक मुठभेड़ में हैदराबाद डॉक्टर दुष्कर्म मामले के चारों आरोपी मारे गए थे।

मुठभेड़ से खुश पर यह कानूनी प्रणाली के माध्यम होना चाहिए था: रेख शर्मा

तेलंगाना मुठभेड़ पर राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने कहा है कि एक आम नागरिक के रूप में मैं खुश महसूस कर रही हूं क्योंकि यह ऐसा अंत था जो हम सभी उन आरोपियों के लिए चाहते थे, लेकिन इसका अंत कानूनी प्रणाली के माध्यम से होना चाहिए था।यह उचित माध्यम से होना चाहिए था।

उन्होंने कहा कि हमने हमेशा उनके लिए मृत्युदंड की मांग की और यहां पुलिस सबसे अच्छी जज है, मुझे नहीं पता कि यह किन परिस्थितियों में हुआ।

राज्य के एक सरकारी अस्पताल में सहायक पशु-चिकित्सक के रूप में कार्यरत महिला का शव 28 नवंबर की सुबह शादनगर में जली हुई हालत में मिला था। गौरतलब है कि साइबराबाद पुलिस ने 29 नवंबर को मामले में चार लोगों को गिरफ्तार किया था और उन्हें शनिवार को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था। सभी आरोपियों की उम्र 24 साल से कम है।

बता दें कि, हैवानियत भरे इस कांड के बाद से देश भर में उबाल था और चारों को फांसी दिए जाने की मांग उठ रही थी। जहां इन आरोपियों को लेकर जाया गया, इन्होंने रेप के बाद के डॉक्टर की हत्या करके शव को वहीं जलाया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here