विश्व कप में पाकिस्तान का बहिष्कार करने पर जानिए क्या बोले रवि शास्त्री, सुनील गावस्कर, हरभजन सिंह, सौरव गांगुली और सचिन तेंदुलकर

0

पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद देश में यह स्वर तेजी से उभर रहा हैं कि इंग्लैंड में होने वाले विश्व कप के दौरान 16 जून को भारत को पड़ोसी देश पाकिस्तान के साथ नहीं खेलना चाहिए। भारत में दक्षिणपंथी लोगों की मांग है कि बीसीसीआई इस मैच का बहिष्कार करे। वहीं, दूसरी ओर इस मुद्दे पर भारतीय क्रिकेट के दिग्गज खिलाड़ी भी इस पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहें है।

विश्व कप

सचिन तेंडुलकर ने शुक्रवार को कहा कि उन्हें आगामी विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ नहीं खेलकर उसे दो अंक देना गवारा नहीं है क्योंकि इससे क्रिकेट महाकुंभ में इस चिर-प्रतिद्वंद्वी को ही फायदा होगा। लेकिन सचिन एकमात्र ऐसे क्रिकेट खिलाड़ी नहीं हैं जिन्होंने इस मामले पर इस तरह का बयान दिया हो। इससे पहले, एक अन्य दिग्गज क्रिकेटर सुनील गावस्कर ने भी इसी तरह बयान दिया था।

जानिए इस मुद्दे पर भारतीय क्रिकेट के दिग्गज खिलाड़ियों ने क्या कहा:

सचिन तेंदुलकर ने शुक्रवार (22 फरवरी) को कहा था कि, ‘भारत ने विश्व कप में हमेशा पाकिस्तान के खिलाफ अच्छा प्रदर्शन किया है। अब फिर से उन्हें हराने का समय है। मैं व्यक्तिगत रूप से उन्हें दो अंक देना पसंद नहीं करूंगा क्योंकि इससे टूर्नमेंट में उन्हें मदद मिलेगी।’ साथ ही उन्होंने कहा, ‘लेकिन मेरे लिए भारत सर्वोपरि है और मेरा देश जो भी फैसला करेगा मैं तहेदिल से उसका समर्थन करूंगा।’

भारतीय क्रिकेट टीम के कोच रवि शास्त्री ने पाक के साथ क्रिकेट खेलने पर कहा की यह फैसला सरकार को करना है। फिलहाल इसमें 3 महीने का वक्त है, गंभीर चर्चा के बाद ही इस मुद्दे पर अंतिम फैसला लिया जाएगा। हालांकि, शास्त्री ने स्पष्ट किया कि आतंकवाद को बढ़ावा देनेवाले देश के साथ भविष्य में संबंध नहीं रखने को लेकर अपनी चिंता बोर्ड आईसीसी के साथ पत्र लिखकर शेयर करेगा।

सुनील गावस्कर ने कहा कि, अगर भारत विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ न खेलने का फैसला लेता है तो इसमें जीत किसकी होगी? मैं सेमीफाइनल और फाइनल की बात नहीं कर रहा हूं। कौन जीतेगा? ऐसे में जीत पाकिस्तान की होगी क्योंकि उन्हें अंक मिलेगा। उन्होंने कहा, ‘भारत ने अभी तक विश्व कप में हमेशा पाकिस्तान को हराया है इस लिहाज से हम अगर पाकिस्तान को हराते हैं तो दो अंक हासिल करेंगे। हमें इस बात को आश्वस्त करना चाहिए कि पाकिस्तान टूनार्मेंट में आगे नहीं जा पाए।’

उन्होंने आगे कहा, ‘इस मुद्दे को काफी गहराई से सोचने की जरूरत है। मैं समझ सकता हूं कि इस समय भावनाएं हावी हैं, लेकिन जब आप उनके साथ नहीं खेलेंगे तो क्या होगा?’ साथ ही उन्होंने कहा कि लेकिन मैं देश के साथ हूं और जो भी फैसला सरकार लेगी मैं उसका पूरा समर्थन करूंगा।

भारत के पूर्व कप्तान सौरभ गांगुली ने India TV से कहा, विश्व कप में कुल 10 टीमें हिस्सा लेती है और सभी टीमों को एक दूसरे से मैच खेलने होते हैं अगर भारत विश्व कप में अपना एक मुकाबला नहीं खेलता है तो मुझे नहीं लगता कि इसमें किसी को आपत्ति होनी चाहिए। उन्होंने एक निजी न्यूज चैनल से बात करते हुए कहा, आईसीसी को भारत के बिना विश्व कप कराने में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ेगा। लेकिन आपको यह भी देखना होगा कि क्या भारत के पास आईसीसी को ऐसा करने से रोकने की शक्ति है। लेकिन मुझे ऐसा लगता है कि एक सपष्ट संदेश जरुर भेजा जाना चाहिए।

भारत के पूर्व गेंदबाज हरभजन सिंह ने इंडिया टुडे से कहा, भारत को आगामी विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ मैच नहीं खेलना चाहिए। हरभजन ने कहा कि भारत अगर 16 जून को मैनचेस्टर में पाकिस्तान के खिलाफ होने वाले विश्व कप के मैच को गंवा भी देता है तब भी हमारी टीम इतनी मजबूत है कि विश्व कप जीत सकती है। उन्होंने कहा, हमें देश के साथ खड़े होना चाहिये, क्रिकेट या हॉकी या किसी भी खेल में हमें उनके साथ नहीं खेलना चाहिये।

भारतीय गेंदबाज युजवेंद्र चहल ने कहा, विश्व कप में पाकिस्तान के साथ मैच खेलना है कि नहीं यह पूरी तरह सरकार और बीसीसीआई के फैसले पर निर्भर करता है। एक या दो खिलाड़ी इस पर फैसला नहीं कर सकते लेकिन अब यह सही समय है, जब हमें आतंकवाद पर कोई निणार्यक कार्रवाई करनी चाहिए।

गौरतलब है कि गुरुवार (14 फरवरी) की शाम जम्‍मू कश्‍मीर के पुलवामा जिले में जैश-ए-मोहम्मद के एक आतंकवादी ने विस्फोटकों से लदे वाहन से सीआरपीएफ जवानों की बस को टक्कर मार दी, जिसमें 40 जवान शहीद हो गए थे। इस घटना ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया है, हर कोई शहादत को नमन कर रहा है। बता दें कि पुलवामा हमले के बाद से भारतीय टीम के कई दिग्गज खिलाड़ी पाकिस्तान के पूर्ण बहिष्कार की मांग कर रहें है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here