MCD चुनाव में हार पर बोले विश्वास- जनता ने हमें नकारा है, हम अपने काम को लोगों तक पहुंचा नहीं पाए

0

दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) चुनाव में मिली करारी हार के बाद आम आदमी पार्टी(आप) के बड़े नेता और कवि कुमार विश्वास ने परोक्ष रूप से पार्टी पर हमला बोलते हुए गुरुवार(28 अप्रैल) को कहा कि ईवीएम एक मुद्दा हो सकता है, लेकिन हम अपनी हार के लिए सिर्फ ईवीएम को गलत नहीं ठहरा सकते। हालांकि, उन्होंने कहा कि ईवीएम की जांच होनी चाहिए।

कुमार विश्वास

विश्वास ने एक निजी चैनल को दिए इंटरव्यू के दौरान कहा कि हमें जनता ने नकारा है, क्योंकि हम अपनी बात को जनता तक सहीं ठंग से पहुंचा नहीं सके। उन्होंने कहा कि दिल्ली में पार्टी ने जो काम किया है, उसे हम लोगों तक पहुंचा नहीं पाए। इसके अलावा एमसीडी के भ्रष्टाचार पर हम लोगों का ध्यान आकर्षित करवाने में असफल रहे।

Also Read:  कंगना और ह्रितिक में क़ानूनी जंग, क्या कंगना ने वाक़ई ह्रितिक को 1439 इमेल्स भेजी थी?

साथ ही कहा कि पंजाब चुनाव में उतरने का फैसला गलत था। कुमार ने कहा कि हमारी पार्टी में भी कांग्रेस का 30-40 प्रतिशत प्रभाव पड़ गया है। उन्होंने कहा कि व्यक्ति पूजा से हमें बाहर निकलना होगा। एक के जवाब में उन्होंने माना कि हमारे नेता भी खबर प्लांट करवाते हैं।

Also Read:  केंद्र सरकार के आदेश के बाद भी गाड़ी पर लाल बत्ती लगा कर धूम रहे हैं पश्चिम बंगाल के मंत्री

विश्वास ने सर्जिकल स्ट्राइक के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को निशाना बनाने के फैसले को भी गलत बताया। कुमार ने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक के मुद्दे पर वीडियो जारी कर सबूत मांगने से बचा जा सकता था। कुमार ने माना कि फिलहाल पार्टी में बड़े बदलाव की जरूरत है।

बता दें कि पूर्वी दिल्ली(63 वार्ड) नगर निगम में बीजेपी ने 47, आप ने 11 और कांग्रेस ने 3 वार्ड जीते। वहीं, दक्षिणी दिल्ली(104 वार्ड) निगम में बीजेपी को 70, आप को 16 और कांग्रेस को 12 वार्डो पर जीत मिली। उत्तरी दिल्ली निगम(103 वार्ड) में बीजेपी ने 64, आप ने 21 और कांग्रेस ने 15 वार्ड जीते।

Also Read:  जब यूपी में विदेशी महिला को दौड़ा दौड़ा कर मारा गया

वहीं, दो साल में ‘आप’ का वोट प्रतिशत आधा हो गया है। 2015 के विधानसभा में ‘आप’ को 54.3 फीसदी वोट मिले थे। लेकिन निगम चुनाव में 26.23 प्रतिशत मिले हैं। वहीं, कांग्रेस का वोट प्रतिशत बढ़ा है। विधानसभा चुनाव में उसे 9.7 फीसदी वोट मिले थे। जबकि, निगम चुनाव में पार्टी को 21.11 प्रतिशत वोट मिले हैं। वहीं, बीजेपी का वोट प्रतिशत 4 फीसदी बढ़ा है। उसे 36.18 फीसदी वोट मिले हैं।

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here