चाय से ज्यादा केतली गरम, मोदी से ज्यादा जेटली गरम: कुमार विश्वास

3

इरशाद अली

बाबा राम रहीम के अनुयायियों द्वारा कीकू शारदा की गिरफ्तारी के बाद देशभर के हास्य कलाकारों में भारी रोष की लहर दिखी। जाने माने हास्य कलाकारों ने टेलिविजन पर सामने आकर अपना पक्ष रखा और कीकू शारदा की तरफ से बोलते हुए बाबा रहीम के लोगों की ओर से किए गए मुकदमें को गलत बताया।

इसी मुद्दे पर जाने-माने कवि कुमार विश्वास से एक रेडियो चैनल ने जब उनकी राय जानी तब कुमार अपने चिरपरिचित अंदाज में दिखें। बातचीत शुरू करने से पहले ही रेडियो जाॅकी ने कुमार विश्वास से ये कह डाला कि हम अपने चैनल पर आपकी खूब नकल करते है। कवि सम्मेलन-कवि सम्मेलन के नाम से इसमें हमने आपका नाम डा सुकुमार विश्वास रख हुआ है और बहुत सारी बातें बतिया कर अपने घर को निकल लेते है तो कहीं कुमार विश्वास के समर्थकों को गुस्सा आ गया और उनकी भी भावनाएं आहत हो गयी तो क्या आपके भक्त भी हम पर केस कर देगें।

इस बात के जवाब में कुमार विश्वास ने चुटकी लेते हुए कहा कि चाय से ज्यादा तो केतली गरम है और मोदी से ज्यादा तो जेटली गरम है अगर मिमिक्री की जा रही है तो इससे आहत होने वाली बात नही है। स्पूफ तो बहुत ब्रिलियेट चीज है, कीकू शारदा बहुत सीरियसली अपना काम कर रहे है।

उनके खिलाफ उठाया गया ये कदम गलत बात है। आगे उन्होंने कहा की हम उस धर्म में पैदा हुए है जहां सुरदास खुद भगवान श्रीकृष्ण का मजाक उड़ाते है। अगले सवाल के जवाब में जब उनसे पुछा गया कि यदी आपसे प्रेरित होकर आपकी हम नकल उतारते है और इन्टरनेट पर आपके स्पोर्ट्स हमें गरियाते है तब क्या करे। तब कुमार ने सहजता से जवाब देते हुए कहा कि यदि वे लोग ऐसी बातें करते है तो आप सच में हमारे सर्मथक और प्रशंसक नहीं है।

आगे उन्होंने कहा कि मेरे इतने स्पूफ बने मैं कभी आहत नहीं होता अगर हमें इतना ही आहत और सीरियस होना है तो नारी को देवता कहने वाले इस देश में जब 6 साल की बच्ची के साथ रेप हो जाता है तब लोगों की भावनाएं आहत होनी चाहिए, अगर इस सभ्य समाज में 100 लोग ठंड से सिकुड़ कर मर जाते है तो लोगों की भावनाएं आहत होनी चाहिए, काला हांडी में अगर लोग भूख से मर रहे है तो लोगों की भावनाएं आहत होनी चाहिए बजाय इसके की उन्होंने कोई मिमिक्री कर दी या कोई कपड़ा पहन लिया तो इनकी भावनाएं आहत हो गयी।

  • Bhagawana Ram Upadhyay

    मेरे देश
    भारत म शास्त्री जी जैसे ईमान की मूरत , राष्ट्र
    का सपूत , देश का
    प्रधान मंत्री ताशकंद म साजिश का शिकार हो सकता ह तो देश का कोई भी ईमानदार , देशभक्त नागरिक ये नहीं सोचे की वो देशद्रोहियो की साजिश का शिकार नहीं
    होगा . चाहे वो राजीव जी दिक्सित जैसे माँ भारती के लाडले हो चाहे अरविंद जैसे
    देशभक्त सपूत . मेरा देशप्रेमियों से करबध्धा
    निवेदन ह की शास्त्री जी के मर्डर की साजिश के ये वीडियो जरूर देखे जो
    यूट्यूब पैर ह. सत्य और न्याय के मालिक की
    जय हो

    5- https://youtu.be/BJmkS7azuGU

    6- https://youtu.be/l9O2KO2Xv-M

  • Bhagawana Ram Upadhyay

    जागो
    -जागो-जागो
    ——८————

    देश की सत्ता की , न्याय की , आई ऐ एस ,आई पी एस ,आई आर एस , आई ऍफ़ एस की कुर्सी
    पर बैठे हुओ सोचो
    -मनन करो . आज़ादी देकर गए की आत्माए रोती होगी की हम शहीद क्यों हुए .आज़ादी
    के कारन आपको ये पोस्ट मिली
    , अधिकार
    मिले . आज यदि 19 करोड़ भूखे सोते है तो कुदरत का कानून आप पर कठोर दंड का विधान कर सकता हैं . कुदरत
    का कानून अटल है . इतिहाश
    इसका साक्षी है . सत्य
    और न्याय के मालिक की जय हो .

  • Bhagawana Ram Upadhyay

    भरषटाचार के पैसो का गंदा खेल.

    ————–8——————————

    1- इंसान को इंसान न समझे.

    2-औलाद बिगड़े.

    3- बुढ़ापे मे खुद की आत्मा धिक्कारे.

    4-गंदे शौक (आदते) .

    5- घर मे संसकारो का ख़ात्मा.

    6-न्याय खरीद-फ़रोक्त.

    7-नोकारियो मे अयोग्य लोकसेवको की भर्ती.

    8-न्याय के बिकने से नक्सलियो का जन्म.

    9-गंदे नेताओ का व्यवस्थपिका मे बहुमत.

    10-इह लोक के साथ-साथ अगले जन्म के लिए नारकीय जीवन पर्चेज.

    सत्य और न्याय के मलिक की ज़य हो.