मनी लॉन्ड्रिंग केस में कोटक महिंद्रा बैंक का मैनेजर गिरफ्तार

0

प्रवर्तन निदेशालय ने मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में कार्रवाई करते हुए कोटक महिंद्रा बैंक के कस्तूरबा गाँधी मार्ग ब्रांच के मैनेजर को गिरफ्तार किया है। यह गिरफ्तारी नोटबंदी के बाद नौ फ़र्ज़ी खातों में 34 करोड़ जमा कराए जाने के सम्बन्ध में हुई है।

कोटक महिंद्रा बैंक

अधिकारियों ने बताया कि गिरफ्तारी बीती रात काफी देर तक पूछताछ के बाद की गई। उन्होंने कहा कि  मैनेजर को मनी लॉन्ड्रिंग प्रिवेंशन एक्ट की धाराओं के तहत गिरफ्तार किया गया है और आगे की कार्रवाई के लिए कोर्ट के समक्ष पेश किया जाएगा।

निदेशालय ने इस मामले में दिल्ली पुलिस की एफआईआर का संज्ञान लेते हुए मनी लॉन्ड्रिंग प्रिवेंशन एक्ट की धाराओं के तहत केस दर्ज किया है। बैंक मैनेजर पर आरोप है कि उसने मशहूर कारोबारी पारसमल लोढा और वकील रोहित टंडन को बड़ी मात्रा में नोट मुहैया कराए थे।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, रोहित के पास से 13 करोड़ 56 लाख रूपये जब्त किये गए थे जिसमे 2 करोड़ 61 लाख के नए नोट भी शामिल थे। पुलिस ने पिछले दिनों बैंक की नया बाजार ब्रांच में नौ फर्ज़ी खातों में 34 करोड़ जमा कराने के सिलसिले में दो अन्य लोगो की गिरफ्तारी की थी। दोनों के नाम रणजीत और राजकुमार गोयल है।

कोटक महिंद्रा ने एक बयान जारी कर कहा है कि उन्होंने कर्मचारी को तत्काल प्रभाव से निष्कासित कर दिया है। साथ ही, बैंक ने कहा कि हम एजेंसियों के पूरा सहयोग कर रहे है। बैंक ने ट्वीट कर कहा , हमने सभी जानकारियां एफआईयू के साथ साझा की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here