नोटबंदी से लोगों का मानसिक स्वास्थ्य प्रभावित, मनोचिकित्सक के अनुसार, मानसिक तनाव के मरीज़ो की संख्या बढ़ी

0

केन्द्र के नोटबंदी के निर्णय से पश्चिम बंगाल के ऐसे कारोबारियों की मानसिक परेशानी बढ़ गई है, जिनकी पूरी बिक्री ही नकदी में होती है।

नोटबंदी की घोषणा के एक दो दिन तक आलू विक्रेता बहुत परेशान हो रहा, क्योंकि उसके पास कोल्डस्टोर में करीब 50 से 60 लाख रुपये तक की सब्जी पड़ी हुई थी।

कारोबारी ने थोक आलू उधार में खरीदा था, जबकि वह इसे छोटे कारोबारियों को नकदी में बेचता था, लेकिन अब नकदी की कमी के कारण खरीदार ही नहीं आ रहे हैं।

Also Read:  योगी आदित्यनाथ की तुलना गुंडे से करने के बाद शिरीष कुंदर के खिलाफ FIR दर्ज, बिना शर्त माफी मांगने को हुए तैयार

dc-cover-bo18ijamqdm3i6ta0leuht61e2-20161118144450-medi

वरिष्ठ सलाहकार मनोचिकित्सक संजय गर्ग ने प्रेट्र से कहा, ‘‘थोक विक्रेताओं को डर है कि उनका पूरा भंडार बर्बाद हो जाएगा, जिससे उन्हें भारी नुकसान होगा। उनमें तनाव और परेशानी है और नोटबंदी के कारण मरने की बात सोच रहे हैं।

भाषा की खबर के अनुसार, मनोचिकित्सक के अनुसार सरकार द्वारा नोटबंदी के निर्णय के बाद उनके पास मानसिक तनाव वाले मरीजों की संख्या बढ़ रही है।

Also Read:  चीन में तेज आंधी की वजह से ग्रेट वॉल का एक हिस्सा गिरा

गर्ग ने बताया कि इनमें से ज्यादातर मरीज मध्यम और उच्च मध्यम परिवारों के हैं। यह सभी लोग बंगाल के ग्रामीण इलाकों में रहते हैं, जहां प्लास्टिक मनी का इस्तेमाल बहुत सीमित है।

एक अन्य महिला चिकित्सिक संतश्री गुप्ता ने कहा, ‘‘उनके पास एक 50 वर्षीय विधवा महिला आई, जिसके पास अपने मृत पति का 30 लाख रुपये नकदी में था।

Also Read:  ATM की सीमा 4.500 से बढ़ाकर 10.000 तक की गई, रोज निकाल सकते है दस हजार रुपये तक

गुप्ता ने कहा, ‘‘वह एक फ्लैट खरीदने की योजना बना रही थी. जबकि शेष राशि को अपने पुत्र की शादी में खर्च करना चाहती थी. अब वह बहुत असुरक्षित महसूस कर रही है।’’ उन्होंने बताया कि उसे कुछ दिनों के लिए चिकित्सकीय देखरेख में रखा गया है।’’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here