स्वतंत्रता दिवस पर भाषण के दौरान PM मोदी की सुरक्षा में बड़ी चूक, मंच के पास गिरी ‘पतंग’

0
5
Photo: TOI

आज(15 अगस्त) पूरा देश 71वां स्वतंत्रता दिवस धूमधाम से मना रहा है। इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चौथी बार लाल किले की प्राचीर से तिरंगा फहराया और देश को संबोधित किया। पीएम मोदी ने अपने संबोधन में उन तमाम मुद्दों को उठाया, जिसके बारे में लोग सुनना चाहते थे। हालांकि, पीएम मोदी के संबोधन के दौरान उनकी सुरक्षा में एक बड़ी चूक सामने आई है।

Photo: TOI

दरअसल, लाल किले की प्राचीर से प्रधानमंत्री के संबोधन के दौरान एक कटी पतंग मंच के नीचे आ गिरी। काले रंग की यह पतंग उस समय मंच के पास आकर गिरी, जब प्रधानमंत्री मोदी अपना संबोधन समाप्त करने वाले थे। सुरक्षा इंतजाम के लिहाज से अतिसंवेदनशील घोषित किये गये कार्यक्रम स्थल पर प्रधानमंत्री के संबोधन के लिये बनाये गये मंच के नीचे आकर गिरी इस पतंग से, हालांकि कार्यक्रम में कोई व्यवधान नहीं आया।

स्वतंत्रता दिवस समारोह के आयोजन स्थल लाल किले के आसपास थल से लेकर नभ तक सुरक्षा के ऐसे पुख्ता इंतजाम किये गये थे कि परिंदा भी पर न मार सके। स्वतंत्रता दिवस समारोह और जन्माष्टमी के पर्व को देखते हुये मुख्य आयोजन स्थल सहित समूची दिल्ली में अभूतपूर्व सुरक्षा व्यवस्था के तहत दिल्ली पुलिस के लगभग 70 हजार जवान चप्पे चप्पे पर तैनात थे। इनमें से 9100 पुलिसकर्मी और प्रशिक्षित कमांडो लाल किला और आसपास के इलाके में तैनात थे।

PM मोदी ने दिया अब तक का सबसे छोटा भाषण

पीएम मोदी ने अपने भाषण में पिछले दिनों गोरखपुर के अस्पताल में हुई बच्चों की मौत का भी जिक्र किया। इसके अलावा प्राकृतिक आपदा, कश्मीर मामला, भ्रष्टाचार, नोटबंदी, तीन तलाक और न्यू इंडिया जैसे मुद्दों को शामिल किया। हालांकि, पीएम मोदी ने पिछले साल स्वतंत्रता दिवस पर ऐतिहासिक के रूप से सबसे लंबा भाषण देने के बाद इस साल अपना अब तक का सबसे छोटा संबोधन किया।

रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले साल स्वतंत्रता दिवस के मौके पर पीएम मोदी द्वारा 96 मिनट का किया गया संबोधन प्रधानमंत्री द्वारा दिया गया सबसे लंबा भाषण था, लेकिन इस साल पीएम मोदी ने 57 मिनट के संबोधन में देशवासियों से अपनी बात कही। पिछले चार सालों में मोदी द्वारा स्वतंत्रता दिवस के मौके पर दिया गया यह अब तक का सबसे छोटा भाषण था।

दरअसल, पिछले महीने ‘मन की बात’ कार्यक्रम में मोदी ने देशवासियों के सुझाव पर इस बार अपना भाषण ज्यादा लंबा न करते हुए इसे संक्षिप्त रखने की बात कही थी। रेडियो पर प्रसारित ‘मन की बात’ कार्यक्रम में पीएम मोदी ने कहा था कि उन्हें लोगों से मिल रहे पत्रों में कहा गया है कि स्वतंत्रता दिवस पर दिया जाने वाला उनका संबोधन ‘थोड़ा ज्यादा ही बड़ा’ हो जाता है। इसके मद्देनजर उन्होंने इस साल छोटा भाषण देने का वादा किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here