किरीट सोमैया के टिकट कटने से पता चलता है कि बीजेपी नेताओं को नरेंद्र मोदी का समर्थन करते हुए लापरवाही से बचना चाहिए

0

केंद्र में एनडीए की सहयोगी और महाराष्ट्र सरकार में साथ देने वाली शिवसेना के दबाव के सामने झुकते हुए भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने बुधवार को उत्तर पूर्व मुंबई के सांसद किरीट सोमैया को टिकट नहीं दिया और इस सीट से मनोज कोटक को अपना उम्मीदवार घोषित किया। बता दें कि महाराष्ट्र में शिवसेना ने किरीट सोमैया के नाम का विरोध किया था, किरीट सोमैया मुंबई बीजेपी के वरिष्ठ नेता हैं।

किरीट सोमैया
फाइल फोटो: किरीट सोमैया

बीजेपी महानगर की छह सीटों में से तीन सीटों पर लड़ रही है और सोमैया यहां एकमात्र बीजेपी सांसद हैं, जिनका टिकट कटा है। बाकी तीन सीटों पर बीजेपी की गठबंधन सहयोगी शिवसेना चुनाव लड़ रही है। खबरों के मुताबिक, सोमैया महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और पार्टी के वरिष्ठ नेतृत्व के पास उनसे टिकट के लिए अनुरोध करने के लिए पहुंचे थे, लेकिन वह उन्हें उनके मामले से सुलझाने में नाकाम रहे।

मुंबई नॉर्थ-ईस्ट संसदीय सीट में शिवसेना के दो विधायक हैं। उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली पार्टी का यहां समर्थकों का काफी आधार है। पिछले दिनों पार्टी की आलोचना के कारण शिवसेना कथित तौर पर सोमैया की उम्मीदवारी के खिलाफ थी। इस सीट पर सोमैया का नाम आने पर शिवसेना ने जमकर विरोध किया था।

सोमैया को पिछले कुछ वर्षों में शिवसेना प्रमुख पर हमला करते देखा गया था जब ठाकरे और बीजेपी नेतृत्व के बीच संबंध खराब थे। सोमैया ने कुछ समय पहले ही शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के खिलाफ हमला बोलते हुए उन्हें अपनी और परिवार की संपत्ति के साथ आय के साधन का खुलासा करने को कहा था। यही नहीं सोमैया ने बृहन्मुंबई महा नगरपालिका में सेना द्वारा चलाए जा रहे ‘माफिया’ का भंडाफोड़ करने की धमकी तक भी दे डाली थी।

शिवसेना कार्यकर्ताओं ने कथित तौर पर धमकी दी थी कि यदि सोमैया को मुम्बई नॉर्थ ईस्ट निर्वाचन क्षेत्र से दोबारा उम्मीदवार बनाया गया तो वे बीजेपी के लिए प्रचार नहीं करेंगे। सोमैया के टिकट की घोषणा लटकने के बाद से ही कयास लगाया जा रहा था कि पार्टी नए चेहरे को उतारेगी।

समाचार एजेंसी ANI से बात करते हुए बीजेपी सांसद किरीट सोमैया ने कहा, “उन्हें खुशी है कि मनोज कोटक को उनकी जगह टिकट दिया गया। हम सभी उनका समर्थन करेंगे और सुनिश्चित करेंगे कि वह जीतें। आमतौर पर हमारा उद्देश्य मोदी जी के लिए दूसरा कार्यकाल है। पार्टी के भीतर जिम्मेदारियां बदलती रहती हैं, इसमें कोई नई बात नहीं है।” वहीं, कोटक ने कहा कि वह निर्वाचन क्षेत्र में सोमैया के अच्छे काम पर प्रकाश डालते हुए वोट मांगेंगे।

किरीट सोमैया के टिकट कटने से पता चलता है कि क्यों बीजेपी नेताओं को नरेंद्र मोदी और अमित शाह का समर्थन करते समय किसी भी तरह के लापरवाही से बचना चाहिए, क्योंकि वे केवल लापरवाही और वफादारी के बारे में परवाह करते हैं।

बता दें कि बुधवार को बीजेपी ने उम्मीदवारों की नई लिस्ट जारी की थी, जिसमें 6 प्रत्याशियों के नाम शामिल हैं। पार्टी ने आजमगढ़ से उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम और समाजवादी पार्टी (सपा) प्रमुख अखिलेश यादव के खिलाफ भोजपुरी गायक और अभिनेता दिनेश लाल यादव ‘निरहुआ’ को उतारा है। इसके अलावा बीजेपी ने रायबरेली सीट से सोनिया गांधी के खिलाफ दिनेश प्रताप सिंह को मैदान में उतारा है। इसके अलावा बीजेपी ने मैनपुरी से समाजवादी पार्टी के सरंक्षक मुलायम सिंह यादव के खिलाफ प्रेम सिंह शाक्य को टिकट दिया है।

बता दें कि इससे पहले बीजेपी ने पार्टी के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी की जगह कानपुर से सत्यदेव पचौरी को टिकट दिया था। सत्यदेव पचौरी उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री हैं। मुरली मनोहर जोशी से पहले पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी का भी गांधीनगर से टिकट काट दिया था। आडवाणी की जगह अमित शाह को इस सीट से मैदान में उतारा गया है।

बता दें कि भारत में 11 अप्रैल से 19 मई तक 7 चरणों में आम चुनाव के लिए मतदान होना है और 23 मई को नतीजों का ऐलान होना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here