अभिनेत्री श्रीदेवी के पार्थिव शरीर को भारत लाने में केरल के इस शख्स ने की थी मदद

0

कैमरे की चकाचौंध और भारत में अपने लाखों प्रशंसकों की नजरों से दूर बॉलीवुड अभिनेत्री श्रीदेवी का पार्थिव शरीर जब संयुक्त अरब अमीरात के एक साधारण से शवगृह में रखा हुआ था तब उसे स्वदेश भेजने में एक हमवतन ही मददगार के तौर पर सामने आया।

Photo: @SumitkadeI

न्यूज़ एजेंसी भाषा की ख़बर के मुताबिक, दुबई में मौजूद अशरफ शेरी थामारासरी भारत के केरल के रहने वाले हैं जो यहां अमीरात में मरने वाले लोगों को स्वदेश भेजने में मदद करते हैं। थामारासरी ने कर्ज के तले डूबे श्रमिकों से लेकर अमीरों तक 4,700 शवों को विश्व के 38 देशों तक भेजने में मदद की है।

वह इसे उन लोगों के प्रति अपनी नैतिक जिम्मेदारी मानते हैं जिन्हें अपना घर छोड़कर इस रेगिस्तानी देश में रहना पड़ता है। उनका कहना है कि मैं यह सब दुआ हासिल करने के लिए करता हैं लेकिन इसलिए भी करता हूं कि जब यहां किसी की मौत होती है तो लोगों को स्वदेश भेजने की प्रक्रिया के बारे में ठीक से नहीं पता होता है।

वन इंडिया हिंदी की ख़बर के मुताबिक, अशरफ ने मंगलवार को कुल 5 शवों को स्वदेश भेजने में मदद की थी जिसमें श्रीदेवी का शव भी शामिल था। दुबई पुलिस मुख्यालय से लकर शवगृह तक, श्रीदेवी के शव से जुड़ी सभी कागजी कार्यवाहियों को अशरफ ने ही पूरा करवाया। अशरफ ने ही शवगृह पहुंचकर अधिकारियों को श्रीदेवी के शव का क्लियरेंस रिपोर्ट सौंपा था जिसके बाद एबुलेंस में श्रीदेवी का शव दुबई एयरपोर्ट के लिए रवाना हो पाया।

गौरतलब है कि, 54 वर्षीय श्रीदेवी की शनिवार 24 फरवरी को दुबई स्थित एक होटल के बाथरूम में मौत हो गई थी। डिनर से पहले बाथरूम गईं श्रीदेवी चक्कर आने के बाद बेहोश होकर पानी भरे बाथटब में गिर गईं, देर तक डूबे रहने से उनकी सांस थम गई। बता दें कि, श्रीदेवी दुबई में पति बोनी कपूर और बेटी ख़ुशी के साथ एक शादी समारोह में भाग लेने के लिए गई हुई थीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here