केरल विधानसभा के विशेष सत्र से पहले विधायकों ने किया 10 किलो गोमांस का नाश्ता

0

वध के लिए पशुओं की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने और बीफ खाने को लेकर को लेकर चल रहा विवाद में अब नया मोड़ आ गया है।गुरुवार को बुलाए गए केरल विधानसभा के एक दिवसीय विशेष सत्र में हिस्सा लेने से पहले विधायकों ने नाश्ते में गोमांस का सेवन किया।

केरल विधानसभा

कई राज्य इस कानून का विरोध कर रहे हैं। केंद्र सरकार की ओर से काटने के लिए मवेशियों की खरीद-फरोख्त पर बैन लगाने की अधिसूचना को लेकर का न सिर्फ विपक्षी पार्टियां विरोध कर रही हैं, बल्कि भारतीय जनता पार्टी में भी हंगामा मचा हुआ है।

मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक, गोमांस परोसे जाने की खबर पर कैंटीन के एक कर्मचारी ने अपना नाम प्रकाशित न किए जाने की शर्त पर बताया कि आमतौर पर आम कार्यदिवसों में विधानसभा सत्र के दौरान पूर्वान्ह 11 बजे के बाद गोमांस परोसा जाता है।

कैंटीन के इस कर्मचारी ने बताया कि आज जब गोमांस के मुद्दे पर ही विशेष सत्र बुलाया गया है, तो हम सुबह ही 10 किलो गोमांस ले आए, और अब तक विधानसभा में प्रवेश से पहले ही काफी संख्या में विधायक बीफ फ्राई खा चुके हैं।

जबकि इससे पूर्व मेघालय में पशु व्यापार एवं पशुवध को लेकर जारी अधिसूचना के विरोध में बीजेपी के हजारों कार्यकर्ताओं ने तुरा बीजेपी यूथ अध्यक्ष ग्रेहाम डांगो की अगुवाई में पार्टी से इस्तीफा दे दिया था। डांगो ने बताया था कि पांच मंडल स्तर की समितियां भंग कर दी गई है तथा पांच हजार से अधिक युवा कार्यकर्ताओं ने बीजेपी की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here