मुख्यमंत्री केजरीवाल की उपकुलपति को चिट्ठी, करे मोदी की डिग्री का खुलासा

0

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने दिल्ली विश्वविद्यालय के उप कुलपति को चिट्ठी लिखकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्नातक परीक्षा के शैक्षिणिक रिकार्ड को सार्वजनिक करने की मांग की है। इसके साथ हीे मुख्यमंत्री केजरीवाल ने अंदेशा जताया कि कहीं उनके शैक्षिणिक दस्तावेजों को नष्ट करने की साजिश तो नहीं चल रही हैं।

combination-photograph-delhi-arvind-narendra-photo-kejriwal_e5862bd0-a2fe-11e5-9efc-9b4cf60167c6

मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने दिल्ली विश्वविद्यालय के उप कुलपति को चिट्ठी लिखकर कहा कि पिछले कुछ दिनों से प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी की डिग्री का विवाद बना हुआ है। प्रश्न उठ रहा है कि क्या उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से बी.ए. की डिग्री की थी अथवा नहीं?

Also Read:  मणिपुर: स्टिंग ऑपरेशन में फंसे BJP उम्मीदवार,मतदाताओं को खरीदने की बना रहे थे योजना

कहा जा रहा है कि उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से कोई डिग्री प्राप्त नहीं की। सूत्रों के मुताबिक दिल्ली विश्वविद्यालय के रिकार्ड में न ही उनका एडमिशन फार्म है, न ही मार्कशीट है, न ही डिग्री की जानकारी है और न ही अन्य रिकार्ड में उनका नाम है।

b579565d-bb88-4315-8f0a-6da24d31dc6a

b579565d-bb88-4315-8f0a-6da24d31dc6a

यह अत्यंत गम्भीर विषय है। क्योंकि गुजरात विश्वविद्यालय का कहना है कि उन्होंने वहां से एम.ए. किया है। अगर उन्होंने बी. ए. ही नहीं किया तो उनको एम. ए. में दाखिला कैसे मिल गया? इससे संदेह पैदा होता है कि तब तो एम. ए. की डिग्री फर्जी है।

Also Read:  2000 के नोट का डर दिखाकर चेन्नई के कैब ड्राइवर ने उठाया फायदा

अंग्रेजी के एक दैनिक अखबार ने खबर छापी है कि प्रधानमंत्री की डिग्री सुरक्षित नहीं है और कोई भी एक्सीडेंट हो सकता है। इससे यह शक पैदा होता है कि क्या एक्सीटेंड करवाने की तैयारी की जा रही है और उसके लिए भूमिका बनाई जा रही है?

आपसे निवेदन है कि इन सभी दस्तावेंजों के हिफाजत के लिए उचित कदम उठाएं बेहतर होगा कि अगर ये सारे दस्तावेज तुरंत वेबसाइट पर डाल दिये जाए। इस देश के लोगों को यह जानने का अधिकार है कि उनके प्रधानमंत्री कितने पढ़े हुए है? और यदि प्रधानमंत्री की डिग्री पर इतने गम्भीर आरोप लगते है तो सच्चाई सामने आनी ही चाहिए।

Also Read:  अंतरिक्ष में एक साथ 104 सैटेलाइट भेजकर इसरो ने रचा इतिहास

अभी दिल्ली विश्वविद्यालय की और से कोई जवाब मुख्यमंत्री को नहीं मिला है लेकिन चारों और से उठते प्रश्नों पर अब शायद प्रधानमंत्री ही सच्चाई जनता को बता सकें कि उनकी शैक्षिणिक योग्यता की वास्तविकता क्या है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here