‘नरेंद्र मोदी जी भारत के प्रधानमंत्री है, दिल्ली का चुनाव भारत का आंतरिक मसला’, पाकिस्तानी मंत्री के ट्वीट पर बोले सीएम केजरीवाल

0

दिल्ली विधानसभा चुनाव जैसे-जैसे नजदीक आ रहे हैं, राजनीतिक बयानबाजी भी तेज होती जा रही है। दिल्ली में होने वाले विधानसभा चुनाव की चर्चा न केवल देश में है, बल्कि पड़ोसी पाकिस्तान भी इन चुनावों पर नजर बनाए हुए है। इस बीच, पाकिस्तान की इमरान खान सरकार में मंत्री चौधरी फवाद हुसैन के प्रधानंत्री नरेन्द्र मोदी पर दिए बयान को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने करारा जवाब दिया है।

विधानसभा चुनाव
FILE PHOTO: @AamAadmiParty

दिल्‍ली के मुख्यमंत्री व आम आदमी पार्टी (आप) के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर पीएम मोदी का बचाव करते हुए कहा कि दिल्ली चुनाव भारत का आंतरिक मामला है। सीएम केजरीवाल ने पाकिस्तानी मंत्री के ट्वीट पर जवाब देते हुए लिखा, “नरेंद्र मोदी जी भारत के प्रधानमंत्री है। मेरे भी प्रधानमंत्री है। दिल्ली का चुनाव भारत का आंतरिक मसला है और हमें आतंकवाद के सबसे बड़े प्रायोजकों का हस्तक्षेप बर्दाश्त नहीं। पाकिस्तान जितनी कोशिश कर ले, इस देश की एकता पर प्रहार नहीं कर सकता।”

दरअसल, पाकिस्तानी मंत्री फव्वाद चौधरी ने पीएम मोदी के खिलाफ ट्वीट किया था। जिसमें चौधरी ने सीएए पर प्रदर्शन, गिरती अर्थव्यवस्था और कश्मीर का जिक्र कर पीएम मोदी निशाना साधा था। बता दें कि, फवाद चौधरी पाकिस्तान सरकार में विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री हैं, वे अक्सर सुर्खियों में रहते हैं।

फवाद ने अपने ट्वीट में लिखा था, ‘भारत के लोगों को मोदी को हराना चाहिए। वह इस वक्त अन्य राज्य के चुनाव (दिल्ली) हारने के प्रेशर में उल्टे सीधे दावे कर रहे हैं, लोगों को डरा रहे हैं। कश्मीर, नागरिकता संसोधन कानून और गिरती अर्थव्यवस्था पर देश-दुनिया से मिली प्रतिक्रिया के बाद उन्होंने अपना मानसिक संतुलन खो दिया है।’

फवाद ने यह ट्वीट मोदी के एक भाषण पर किया था। दरअसल, प्रधानमंत्री मोदी ने मंगलवार को नेशनल कैडट कोर (एनसीसी) को संबोधित करते हुए कहा था कि भारतीय सेनाएं पाकिस्तान को धूल चटाने में 7-10 दिन से अधिक का समय नहीं लेंगी। फवाद ने इसी खबर को ट्वीट कर यह टिप्पणी की है।

बता दें कि, दिल्ली की 70 विधानसभा सीटों पर आठ फरवरी को मतदान होगा और 11 फरवरी को मतगणना होनी है। दिल्ली में मुख्य मुकाबला आम आदमी पार्टी (आप) और केंद्र में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बीच है। हालांकि, कांग्रेस की स्थिति भी पिछले चुनाव के मुकाबले मज़बूत लग रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here