दिल्ली LIVE: एलजी दफ्तर में केजरीवाल सरकार का लगातार तीसरे दिन भी धरना जारी, सत्‍येंद्र जैन के बाद सिसोदिया भी भूख हड़ताल पर बैठे

0

दिल्ली सरकार और उपराज्यपाल के बीच एक बार फिर टकराव की स्थिति उत्पन्न हो गई है। जी हां, अधिकारियों को लेकर एलजी व केजरीवाल सरकार के बीच शुरू हुआ टकराव खत्म होता नहीं दिख रहा। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अपनी मांगों को लेकर उपराज्यपाल अनिल बैजल के आवास पर सोमवार (11 जून) शाम से ही धरने पर बैठे हैं। अपनी मांगों को लेकर केजरीवाल सरकार लगातार तीन दिनों से उपराज्यपाल के दफ्तर पर धरना दे रहे हैं। केजरीवाल का साथ निभाने के लिए उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, मंत्री सत्येंद्र जैन और गोपाल राय लगातार उनके साथ धरने पर बने हुए है।

photo: PTI

अधिकारियों पर कार्रवाई नहीं करने पर धरने में शामिल स्वास्थ्य मंत्री सतेंद्र जैन ने के बाद दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने भी उपराज्यपाल अनिल बैजल के दफ्तर में बुधवार (13 जून) से बेमियादी भूख हड़ताल शुरू कर दी। एक दिन पहले स्वास्थ्य मंत्री सतेंद्र जैन अपनी मांगों को लेकर भूख हड़ताल पर बैठ गए थे। सिसोदिया ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है। उन्होंने लिखा है, ‘दिल्ली की जनता को उसका हक दिलाने और उसके रुके हुए काम कराने के लिए आज से मैं भी अनिश्चितकालीन अनशन पर बैठ रहा हूं। सत्येंद्र जैन जी का अनशन भी कल से जारी है। हमारा आत्मबल और जनता का विश्वास ही हमारी ताकत है।’

केजरीवाल सरकार ने आईएएस अधिकारियों को हड़ताल खत्म करने का निर्देश देने और ‘‘चार महीनों’’ से कामकाज रोक कर रखे अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करने सहित तीन मांगें की है। पहली यह कि दिल्ली सरकार में कार्यरत भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) अधिकारियों की हड़ताल खत्म कराई जाए। दूसरी, काम रोकने वाले आईएएस अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए और तीसरी मांग है कि राशन की दरवाजे पर आपूर्ति की योजना को मंजूर किया जाए। केजरीवाल का आरोप है कि एलजी इस मामले में ढीला-ढाला रवैया अपना रहे हैं।

केजरीवाल, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और दो अन्य मंत्री गोपाल राय तथा सत्येंद्र जैन ने सोमवार शाम साढ़े पांच बजे उपराज्यपाल अनिल बैजल से मुलाकात की और तब से वे उपराज्यपाल कार्यालय में बैठे हैं। सूत्रों ने बताया कि दिल्ली के इतिहास में यह पहली बार है जब मुख्यमंत्री और उनके कैबिनेट सहयोगियों ने अपनी मांगों को लेकर उपराज्यपाल के दफ्तर में रात गुजारी हों। केजरीवाल सरकार के अनुसार, मुख्य सचिव अंशु प्रकाश से कथित मारपीट के बाद से आईएएस अधिकारी हड़ताल पर हैं और वे आप मंत्रियों के साथ बैठकों का बहिष्कार कर रहे हैं जिससे सरकारी कामकाज प्रभावित हो रहा है।

बहरहाल, अधिकारियों के एक संगठन ने कहा कि कोई भी अधिकारी हड़ताल पर नहीं है और किसी भी काम पर असर नहीं पड़ा है। गौरतलब है कि मुख्य सचिव अंशु प्रकाश पर केजरीवाल के आवास पर फरवरी में हुए कथित हमले के बाद से आप सरकार और नौकरशाही के बीच तकरार चल रही है। दिल्ली सरकार के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ मुख्यमंत्री के सरकारी आवास पर कथित मारपीट के बाद आईएएस पिछले करीब चार माह से हड़ताल पर हैं।

अरविंद केजरीवाल और उनकी सरकार के मंत्रियों ने इस तरह से दूसरी रात भी उपराज्यपाल के कार्यालय में बिताई। आप सरकार की मांगों में यह भी शामिल है कि उपराज्यपाल आईएएस अधिकारियों को उनकी ‘हड़ताल’ समाप्त करने का निर्देश दें और उन अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करें जिन्होंने चार महीने से काम को ‘अवरुद्ध’ कर रखा है। केजरीवाल ने आज सुबह उपराज्यपाल के दफ्तर से ट्वीट किया कि यह जानने की कोशिश कर रहे हैं कि प्रधानमंत्री कार्यालय की हरी झंडी के बिना क्या आईएएस अधिकारियों का काम पर लौटना संभव है ?

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘‘क्या मोदी सरकार दिल्ली सरकार द्वारा किए जा रहे अच्छे कामों को बरबाद करने के लिए आईएएस अधिकारियों का इस्तेमाल एक औजार के तौर पर नहीं कर रही है?’’ उन्होंने कहा कि दिल्ली के विकास में ‘रूकावटों’ को हटाने तक उनका संघर्ष जारी रहेगा।

केजरीवाल सरकार की ये हैं तीन मुख्य मांगे 
1- दिल्ली सरकार में कार्यरत आईएएस अधिकारी कथित हड़ताल खत्म करें
2- काम रोकने वाले आईएएस अधिकारियों पर कड़ी कार्रवाई हो
3- राशन की ‘डोर स्टेप डिलिवरी ऑफ राशन’ योजना के प्रस्ताव को मंजूरी दी जाए

देखिए, लाइव अपडेट्स:-

सीएम केजरीवाल ने एक अन्य ट्वीट कर लिखा, “सभी दिल्लीवासियों को सुप्रभात। Good morning, दिल्ली के विकास के कामों में उत्पन्न की जा रही बाधाओं को दूर करवाने के लिए संघर्ष जारी है। हमारा आत्मबल ही हमारी ताक़त है।”

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा कि एलजी हाउस में हमारी दूसरी रात। हम यहां इसलिए हैं क्योंकि हमें दिल्ली से प्यार है और हम उसकी कद्र करते हैं। हम चाहते हैं कि दिल्ली और बेहतर बने। हमें दुख होता है कि कई अच्छे कदम अटके पड़े हैं। चलिए, अपनी प्यारी दिल्ली को बेहतर बनाएं एलजी सर। साथ मिलकर ऐसा करते हैं।

सिसोदिया ने एक अन्य ट्वीट में लिखा, “एलजी साहब के वेटिंग रूम में इंतज़ार करते हुए आज तीसरा दिन है। उन्हें वक्त नही मिला है कि IAS अफसरों की हड़ताल खत्म करने के आदेश दे सकें और राशन की फाइल पर मंजूरी दे सकें। तीन दिन से एलजी साहब का कुछ ना करना और उनकी जिद प्रमाण है कि IAS हड़ताल एलजी के इशारे पर ही चल रही है।”

डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने ट्वीट कर कहा है कि दिल्ली की जनता को उसका हक दिलाने और उसके रुके हुए काम कराने के लिए आज से मैं भी अनिश्चितकालीन अनशन पर बैठ रहा हूं। सत्येंद्र जैन जी का अनशन भी कल से जारी है। हमारा आत्मबल और जनता का विश्वास ही हमारी ताकत है।

आम आदमी पार्टी के ट्विटर अकाउंट से ट्वीट कर कहा गया है कि एलजी साहब ये लड़ाई किसी व्यक्ति विशेष की नहीं है। ये लड़ाई दिल्ली की जनता के हक की लड़ाई है। उनके हक के लिए एक रात क्या ऐसी कई रातें कुर्बान।

 

 

Pizza Hut

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here