मुख्य सचिव से बदसलूकी मामला: केजरीवाल बोले- मेरे घर की छानबीन चल रही है, लेकिन जज लोया मामले में अमित शाह से पूछताछ कब होगी?

0

दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ कथित मारपीट के मामले में सत्ताधारी आम आदमी पार्टी (AAP) के दो विधायकों की गिरफ्तारी के बाद अब इस मामले की जांच की आंच मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के घर तक पहुंच चुकी है। इस मामले में सीसीटीवी जांच के लिए शुक्रवार (23 फरवरी) को दिल्ली पुलिस की टीम ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास पर पहुंचकर जांच शरू की है।केजरीवालपुलिस सूत्रों ने बताया कि दिल्ली पुलिस की टीम मुख्यमंत्री आवास में लगे सीसीटीवी की जांच करेगी और वहां के कर्मचारियों से भी पूछताछ कर सकती है। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री आवास पर प्रकाश के साथ हुई बदसलूकी के मामले में कल आम आदमी पार्टी के दो विधायकों अमानतुल्ला खान और प्रकाश जरवाल को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा गया है।

नवभारत टाइम्स के मुताबिक, पुलिस का मकसद मुख्यमंत्री आवास में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज हासिल करना और उस कमरे का निरीक्षण करना है, जहां पर यह घटना घटित हुई थी। नॉर्थ डिस्ट्रिक्ट के एडिशनल डीसीपी हरेंद्र कुमार सिंह के नेतृत्व में पुलिस दल सीएम हाउस पहुंचा है। पुलिस टीम के साथ फरेंसिक एक्सपर्ट की टीम भी मौजूद है।

बता दें कि प्रकाश ने आप विधायकों के खिलाफ दर्ज अपनी शिकायत में कहा कि वह मुख्यमंत्री आवास में सोफे पर बैठे थे, तभी दोनों विधायकों ने अचानक घूंसे से उनके सिर पर वार करना शुरू कर दिया। उन्होंने आरोप लगाया कि यह एक पूर्वनियोजित षड़यंत्र था। सिविल लाइंस पुलिस ने मुख्य सचिव की शिकायत के बाद आपराधिक षड़यंत्र और भारतीय दंड संहिता की अन्य धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की थी।

केजरीवाल का पलटवार

इस बीच अपने आवास पर दिल्ली पुलिस की छानबीन पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पलटवार किया है। केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, ‘खूब पुलिस मेरे घर भेजी है। मेरे घर की छानबीन चल रही है। बहुत अच्छी बात है। पर जज लोया के कत्ल के मामले में अमित शाह से पूछताछ कब होगी?’ वहीं, पहले वाले ट्वीट को रीट्वीट कर लिखा है, ‘वहीं दो थप्पड़ के आरोप की जांच के लिए CM के पूरे घर की तलाशी। जज लोया के क़त्ल पर पूछताछ तो बनती है। नहीं?’ 

रिपोर्ट के मुताबिक, पुलिस के पहुंचने के बाद केजरीवाल सीएम हाउस से बाहर निकल गए हैं। इसके अलावा पुलिस छानबीन के बीच केजरीवाल ने उपराज्यपाल अनिल बैजल से मिलने का समय मांगा है। उन्होंने खुद ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी है। वहीं, दिल्ली पुलिस ने कहा कि सीएम केजरीवाल से कोई पूछताछ नहीं हुई है। पुलिस ने कहा कि सबूत जुटाने के लिए मुख्यमंत्री आवास गए थे।

दिल्ली पुलिस पूछ रही अजीबोगरीब सवाल

इस बीच आम आदमी पार्टी ने एक वीडियो जारी किया है जिसमें मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास पर CCTV फुटेज लेने पहुंची दिल्ली पुलिस वहां के कर्मचारियों से अजीबोगरीब सवाल पूछ रही है। वीडियो में दिल्ली पुलिस पूछ रही है कि ‘इस कमरे की पेंटिंग कब हुई थी, प्लास्टर कब हुआ था? टॉयलेट कहां है?

मुख्य सचिव से बदसलूकी मामला

मुख्य सचिव से बदसलूकी मामला: देखिए, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास पर CCTV फुटेज लेने पहुंची दिल्ली पुलिस वहां के कर्मचारियों से कैसे अजीबोगरीब सवाल पूछ रही है। http://www.jantakareporter.com/hindi/kejriwal-asks-after-police-search-his-residence/174277/

Posted by जनता का रिपोर्टर on Friday, February 23, 2018

केजरीवाल के सलाहकार बने सरकारी गवाह

बता दें कि दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ कथित मारपीट के मामले में गिरफ्तार सत्ताधारी आम आदमी पार्टी (AAP) के दोनों विधायकों को कोर्ट से झटका लगा है। गुरुवार (22 फरवरी) को अमानतुल्लाह खान और प्रकाश जारवाल को कोर्ट से जमानत नहीं मिली है। दोनों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल भेज दिया गया है। इस बीच मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के सलाहकार वी. के. जैन के विरोधाभासी बयान से मुख्य सचिव अंशु प्रकाश से कथित मारपीट के मामले में नया मोड़ आ गया है।

दिल्ली पुलिस ने गुरुवार (22 फरवरी) को कोर्ट को बताया कि जैन से हुई पूछताछ के बाद नए तथ्य सामने आए हैं। जैन ने बताया है कि आम आदमी पार्टी के विधायक प्रकाश जारवाल और अमानतुल्ला खान मुख्य सचिव अंशु प्रकाश को घेरे हुए थे और उनकी आंखों के सामने वरिष्ठ नौकरशाह के साथ मारपीट की गई। अतिरिक्त सरकारी अभियोजक अतुल श्रीवास्तव ने मेट्रोपॉलिटन मैजिस्ट्रेट शेफाली बरनाला टंडन को यह जानकारी दी।

दिलचस्प बात यह है कि इससे पहले जैन ने कहा था कि उन्होंने कुछ नहीं देखा था, क्योंकि सोमवार रात जब यह घटना घटी तब वह वॉशरूम चले गए थे। AAP विधायकों की कस्टडी लेने की नई अर्जी के साथ अभियोजक ने कहा कि, ‘इस केस में नए तथ्य सामने आए हैं। CM केजरीवाल के सलाहकार से पूछताछ की गई है और CRPC के सेक्शन 164 के तहत उनका बयान दर्ज किया गया है। उन्होंने हमें 4 नाम दिए हैं। ऐसे में पूरे षड्यंत्र से पर्दा हटाने के लिए दोनों विधायकों की पुलिस कस्टडी जरूरी है।’

गौरतलब है कि दिल्ली के मुख्य सचिव ने शिकायत दर्ज कराई है कि AAP के 2 विधायकों ने उनके साथ कथित तौर पर मारपीट की थी। अंशु प्रकाश ने आरोप लगाया है कि सोमवार  (19 फरवरी) देर रात मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास पर बैठक के दौरान ‘आप’ विधायकों ने उनके साथ कथित तौर पर मारपीट की। इस मारपीट की शिकायत अंशु प्रकाश में पुलिस में दर्ज कराई थी। प्रकाश की शिकायत के बाद की गई मेडिकल जांच में उसके साथ मारपीट की पुष्टि भी हुई है।

 

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here