कर्नाटक चुनाव: बीजेपी उम्मीदवार के लिए प्रचार करने का वीडियो वायरल होने के बाद रिपब्लिक टीवी के फाउंडर को आलोचनाओं का करना पड़ा सामना

0

कर्नाटक में 12 मई को होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर जबरदस्त खींचातानी चल रही है, चुनाव प्रचार के आखिरी चरण में सभी दलों ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। रिपब्लिक टीवी के सह-संस्थापक और बीजेपी के राज्यसभा सांसद राजीव चंद्रशेखर द्वारा भगवा पार्टी के एक खनन माफिया उम्मीदवार के लिए प्रचार करने का वीडियो वायरल होने के बाद कांग्रेस ने निंदा की है।

वायरल वीडियो पर राज्य के मौजूदा मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने भी ट्वीट कर प्रतिक्रिया दिया है। सिद्धारमैया ने ट्वीट कर कहा है पैसा उन्हें सत्ताधारियों की प्रशंसा करने और विपक्ष पर हमला करने के लिए एक मेगाफोन तो दे सकता है। लेकिन सबको पता है कि उनके पास कोई राजनीति नैतिकता और संस्कृति नहीं है। क्या यह बस एक पाखंड है। आधिरकार वह खनन माफिया के लिए एक साधारण प्रचारक हैं।

वहीं मुख्यमंत्री सिद्धारमैया के आरोपों पर राजीव चंद्रशेखर ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है।

कर्नाटक के कांग्रेस सोशल मीडिया प्रमुख श्रीवास्तस ने स्थानीय बीजेपी उम्मीदवार लालेश रेड्डी के लिए चंद्रशेखर का एक वीडियो पोस्ट किया, जो भ्रष्टाचार से प्रभावित खनन बैरन जी जनार्दन रेड्डी के भतीजे हैं। वीडियो में दिख रहा है कि, चंद्रशेखर घर से बाहर निकल रहे है और इस दौरान उनके समर्थक ‘भारत माता की जय’ के नारे भी लगा रहें है। रिपब्लिक टीवी के सह-संस्थापक ने अपने कंधे पर एक भगवा शाल भी लपेटा रखा है।

श्रीवास्तस ने वीडियो शेयर करते हुए लिखा कि, बीजेपी सांसद और रिपब्लिक टीवी के मालिक राजीव चंद्रशेखर ने जनार्दन रेड्डी के भतीजे और बीजेपी विधायक उम्मीदवार लालेश रेड्डी के लिए बीटीएम लेआउट क्षेत्र में चुनाव प्रचार किया।

कर्नाटक में चुनाव प्रचार नहीं कर सकेंगे जनार्दन रेड्डी

बता दें कि अभी हाल ही में कर्नाटक विधानसभा चुनाव के मद्देनजर सुप्रीम कोर्ट माइनिंग घोटाले के आरोपी जी जनार्दन रेड्डी को भाई के चुनाव प्रचार के लिए बेल्लारी जाने के लिए इजाजत देने से साफ इनकार कर दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि प्रचार में उनकी कोई जरूरत नहीं है। सुप्रीम कोर्ट में रेड्डी की ओर से कहा गया था वो 10 दिन के लिए बेल्लारी जाना चाहते हैं।

रेड्डी की ओर से कहा गया कि वह अपने भाई सोमशेखर रेड्डी के प्रचार में जाना चाहते हैं और 12 मई को चुनाव में मौजूद रहना चाहते हैं। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि प्रचार में उनकी कोई जरूरत नहीं है। गौरतलब है कि माइनिंग घोटाले में रेड्डी आरोपी हैं और जमानत पर हैं। 2015 में उन्हें जमानत मिली थी और जमानत की शर्तों में ये भी कहा गया कि वो बेल्लारी नहीं जाएंगे।

गौरतलब है कि, बीजेपी और कांग्रेस के बीच कर्नाटक चुनावों के मद्देनजर आरोप-प्रत्यारोप का दौर कुछ ज्यादा ही तेज हो गया है। जहां कांग्रेस के सामने सत्ता बचाने की चुनौती है, वहीं बीजेपी कर्नाटक में एक बार फिर से सरकार बनाने की जुगत में लगी हुई है।

बता दें कि, कर्नाटक में महज पांच दिन बाद विधानसभा चुनाव होने हैं। कर्नाटक में विधानसभा की 224 सीटों पर एक चरण में 12 मई को मतदान होगा। वहीं, वोटों की गिनती 15 मई को की जाएगी।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here