कर्नाटक विधानसभा चुनाव: कांग्रेस ने जारी किया BJP उम्मीदवार का ‘स्टिंग वीडियो’, EC अधिकारियों ने टीवी चैनलों के प्रसारण पर लगाई रोक

0

कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिए आरोप-प्रत्यारोप और आक्षेप से भरा प्रचार अभियान गुरुवार(10 मई) को समाप्त हो गया। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी एंव प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सहित बीजेपी एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने मतदाताओं को अपने पक्ष में करने के लिए कल आखिरी दिन पूरा प्रयास किया। राज्य में चुनाव प्रचार के खत्म होते ही कांग्रेस ने एक स्टिंग वीडियो जारी कर भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) के उम्मीदवार बी श्रीरामुलु पर उंगली उठाई।

कांग्रेस के द्वारा जारी किए इस वीडियो में बीजेपी नेता बी श्रीरामुलु कथित तौर पर सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज के दामाद को घूस देने की कोशिश करते दिख रहे हैं ताकि रेड्डी बंधुओं से जुड़े अवैध खनन मामले में फैसला उनके पक्ष में आए। कांग्रेस ने आरोप लगाया कि भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश के जी बालाकृष्णन ने अपने रिटायरमेंट के ठीक एक दिन पहले जी जनार्दन रेड्डी की माइनिंग कंपनी के हक में फैसला दिया था, इसके लिए रेड्डी ने उन्हें 100 करोड़ रुपए रिश्वत की पेशकश की थी।

वहीं, इस पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कर्नाटक कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव ने कहा कि, ‘श्रीरामुलु अब बीजेपी के स्टार प्रचारक हैं। हम मांग करते है कि इस मामले पर प्रधानमंत्री अपनी चुप्पी तोड़े और कर्नाटक के लोगों को जवाब दें कि, आखिर क्यों बेलारी गैंग को कर्नाटक को लूटने की इजाजत क्यों दी गई और साथ ही इस रिश्वत कांड की उच्च स्तरीय जांच कराने की मांग करते हैं।’

कांग्रेस ने आरोप लगाया कि, जनार्दन रेड्डी, श्रीरामुलु, कैप्टन रेड्डी, स्वामीजी और श्रीरंजन के बीच जनवरी और मई 2010 के बीच कई मुलाकातें हुई थीं। श्रीरंजन पूर्व चीफ जस्टिस के दामाद हैं। कांग्रेस का आरोप है कि इन मुलाकातों में रिश्वत के तौर पर 500 करोड़ रुपए की बात हुई थी, जिसमें से 100 करोड़ रुपए देकर जी जनार्दन रेड्ड् की कंपनी के हक में फैसला कराया गया था।

बता दें कि, श्रीरामुलु को दागी खनन कारोबारी और ओबुलापुरम माइनिंग कंपनी (ओएमसी) के मालिक जनार्दन रेड्डी का करीबी माना जाता है। कर्नाटक विधानसभा चुनाव में श्रीरामुलु दो सीटों- मोलाकलमुरु और बादामी सीट (कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धाराय्याह के खिलाफ) से चुनाव लड़ रहे हैं।

इसी बीच, राज्य के चुनाव अधिकारियों ने टीवी चैनलों को निर्देश दिया हैं कि वे इस ‘स्टिंग वीडियो’ को प्रसारित न करें, जिसमें श्रीरामुलु ने कथित रूप से भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश के रिश्तेदार को रिश्वत देने की कोशिश की थी। सीईओ ऑफिस के एक अधिकारी ने कहा कि इस वीडियो के संबंध में एक रिपोर्ट चुनाव आयोग को भेज दी गई है और न्यूज़ चैनलों को दिशानिर्देश जारी किए गए हैं कि वे वीडियो क्लिप को प्रसारित न करें।

हालांकि, भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि यह फर्जी वीडियो है और इस पर भरोसा नहीं करना चाहिए। अमित शाह ने चुनाव प्रचार के अंतिम दिन संवाददाताओं से कहा कि वीडियो पूरी तरह से फेक है और इस पर भरोसा नहीं करें।

गौरतलब है कि, बीजेपी और कांग्रेस के बीच कर्नाटक चुनावों के मद्देनजर आरोप-प्रत्यारोप का दौर कुछ ज्यादा ही तेज हो गया है। जहां कांग्रेस के सामने सत्ता बचाने की चुनौती है, वहीं बीजेपी कर्नाटक में एक बार फिर से सरकार बनाने की जुगत में लगी हुई है। कर्नाटक में महज पांच दिन बाद विधानसभा चुनाव होने हैं। कर्नाटक में विधानसभा की 224 सीटों पर एक चरण में 12 मई को मतदान होगा। वहीं, वोटों की गिनती 15 मई को की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here