कर्नाटक विधानसभाध्यक्ष ने दिया विवादित ऑडियो टेप की जांच का आदेश, मुश्किल में फंस सकते हैं BJP नेता येदियुरप्पा!

0

कर्नाटक में जारी सियासी उठापटक फिलहाल थमना नहीं दिख रही है। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेता बीएस येदियुरप्पा पर कांग्रेस-जेडीएस सरकार को गिराने का प्रयास करने और विधायकों को खरीदने का आरोप लगने के बाद मामला गरमा गया है। कांग्रेस-बीजेपी के जारी आरोप-प्रत्यारोप के बीच कर्नाटक के विधानसभाध्यक्ष ने सोमवार (11 फरवरी) को विवादित ऑडियो टेप की जांच का आदेश दिया। बता दें कि टेप में विधानसभाध्यक्ष के नाम का भी जिक्र किया गया है।

(Reuters File)

मुख्यमंत्री एच.डी. कुमारस्वामी द्वारा पिछले सप्ताह जारी इस ऑडियो क्लिप में कथित तौर पर भारतीय जनता पार्टी द्वारा जनता दल (सेक्यूलर) के एक विधायक को प्रलोभन देने का खुलासा किया गया है। ऑडियो क्लिप में कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी नेता बी. एस. येदियुरप्पा ने कथित तौर पर सात फरवरी को विधायक नागना गौड़ा कांदकुर के पुत्र शरना गौड़ा से बातचीत के दौरान विधानसभाध्यक्ष के. आर. रमेश कुमार के नाम का जिक्र किया।

मीडिया के सामने टेप चलाकर आठ फरवरी को कुमारस्वामी और शरना गौड़ा ने कहा कि कांदकुर के जनता दल (सेक्यूलर) को छोड़कर बीजेपी में शामिल होने के लिए येदियुरप्पा पैसे देने के लिए तैयार थे। लेकिन वे कितने पैसे देने को तैयार थे, इस बात का जिक्र नहीं किया। सीएम कुमारस्वामी ने कहा कि समिति को अगले 15 दिनों में इसकी रिपोर्ट देनी चाहिए।

कांग्रेस नेता और ग्रामीण विकास व पंचायती राज मंत्री कृष्ण बायर गौड़ा द्वारा विधानससभा में इस मसले को उठाने के बाद कुमारस्वामी ने सदस्यों को बताया, “टेप में मेरे नाम का भी जिक्र किए जाने वाले ऑडियो टेप के तथ्यों की जांच के लिए मैंने मुख्यमंत्री से विशेष समिति का गठन करने को कहा है।” शरना गौड़ा ने दावा किया है कि येदियुरप्पा ने उनसे कहा कि जनता दल (सेक्यूलर) से बीजेपी में शामिल होने पर कांदकुर को दलबदल कानून में शामिल नहीं किए जाने के लिए विधानसभाध्यक्ष को 50 करोड़ रुपये देकर खरीदा जा सकता है।

मुश्किल में फंस सकते हैं BJP नेता येदियुरप्पा!

कर्नाटक के पूर्व सीएम व बीजेपी नेता येदियुरप्पा मुश्किल में फंस सकते हैं। कथित ऑपरेशन लोटस के ऑडियो टेप के मामले में कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी द्वारा एसआईटी (विशेष जांच टीम) जांच के आदेश दिए जाने के बाद येदियुरप्पा समेत कई बीजेपी नेताओं पर शिकंजा कसे जाने के आसार हैं। हालांकि, येदियुरप्पा ने ऑडियो क्लिप को ‘‘फर्जी” बताते हुए सीएम के दावों को खारिज किया है। येदियुरप्पा ने एसआईटी जांच के फैसले का विरोध किया है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के तहत काम करने वाली एजेंसी का इसकी जांच करना उचित नहीं होगा, क्योंकि कुमारस्वामी स्वयं इसमें पहले आरोपी हैं। (इनपुट आईएएनएस के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here