“सामान्य वर्ग के गरीबों को आरक्षण 56 इंच के सीने वाला इंसान ही दे सकता था”

0

केंद्र की नरेंद्र मोदी नीत सरकार द्वारा सामान्य वर्ग के गरीबों को 10 प्रतिशत आरक्षण दिए जाने के फैसले का स्वागत करते हुए भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने बुधवार (9 जनवरी) को कहा कि इस तरह का बड़ा कदम 56 इंच के सीने वाला इंसान ही उठा सकता था। उन्होंने पत्रकारों से कहा, “मोदी सरकार ने शिक्षा और रोजगार में देश के निर्धन वर्ग के सवर्ण बंधुओं को आरक्षण प्रदान करने का फैसला कर उन्हें बहुत बड़ा तोहफा दिया है। यह काम 56 इंच के सीने वाला इंसान ही कर सकता था।”

नरेंद्र मोदी
फाइल फोटो: @PIB_India

बीजेपी नेता ने कहा, “पुरानी आरक्षण व्यवस्था के कारण गरीब तबके के सवर्ण लोग विकास की दौड़ में कहीं न कहीं पीछे छूट रहे थे। इस कारण उनके मन में पीड़ा होती थी और समाज में खाई पैदा हो गयी थी।” विजयवर्गीय ने कहा कि सामान्य वर्ग के गरीबों को 10 प्रतिशत आरक्षण दिये जाने से देश में सामाजिक समरसता का ताना-बाना मजबूत होगा। बता दें कि लोकसभा के बाद राज्यसभा ने भी गरीब सवर्णों को 10 फीसदी आरक्षण देने वाले विधेयक को मंजूरी दे दी है।

सामान्य वर्ग के आर्थिक रूप से पिछड़े परिवारों (गरीब सवर्णों) को शैक्षिक संस्थानों और सरकारी नौकरियों में 10 प्रतिशत आरक्षण देने संबंधी ऐतिहासिक 124 वें संविधान संशोधन विधेयक 2019 पर बुधवार (9 जनवरी) देर रात संसद की मुहर लग गई। यह विधेयक संघीय ढांचे में किसी प्रकार का हस्तक्षेप नहीं करता, इसलिए इसे राज्यों की विधानसभाओं की मंजूरी की जरूरत नहीं है। राष्ट्रपति की मंजूरी के साथ ही यह बिल कानून का रूप ले लेगा।

राज्यसभा में इस विधेयक पर लगभग आठ घंटे तक चली चर्चा के बाद इसे सात के मुकाबले 165 मतों से पारित कर दिया गया। बता दें कि लोकसभा इसे एक दिन पहले यानी मंगलवार को ही पारित कर चुकी है। सदन में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत ने विधेयक पेश करते हुए कहा कि इससे सभी उच्च जातियों और सभी धर्मों के गरीब लोगों को रोजगार और शिक्षा में लाभ मिलेगा। (इनपुट भाषा के साथ)

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here