पत्रकार कल्पेश याग्निक आत्महत्या मामलाः पूर्व बॉस को ब्लैकमेलिंग करते हुए महिला पत्रकार का ऑडियो वायरल

0

दैनिक भास्कर समूह के सम्पादक व वरिष्‍ठ पत्रकार कल्पेश याग्निक की आत्महत्या के मामले में मध्यप्रदेश पुलिस ने सलोनी अरोड़ा नाम की एक महिला पत्रकार को गिरफ्तार किया है। महिला को मुंबई से गिरफ्तार किया गया है, जहां वो अपने बेटे से मिलने के लिए आई थी। महिला पर कल्पेश को आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप है और घटना के बाद से ही ये महिला फरार चल रही थी।

पुलिस ने बताया कि सलोनी लगातार अपने लोकेशन बदल रही थी और इसी वजह से पुलिस को उसे गिरफ्तार करने में देर हुई। आगे जानकारी दी गई कि अपनी इस फरारी के दौरान वो दिल्ली, गोवा और गुजरात में रही। रिपोर्ट के मुताबिक साथ ही पुलिस ने बताया कि वो जब अपने बेटे से मिलने मुंबई पहुंची तब इसकी जानकारी पुलिस को मिली जिसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

सलोनी पर आरोप है कि वो कल्पेश से पांच करोड़ रुपए मांग रही थी और इसी कथित ब्लैकमेलिंग की वजह से उन्होंने आत्महत्या कर ली। इस बीच, एक ऑडियो सामने आया है जिसमें सलोनी कल्पेश को धमकी देते हुए सुनाई दे रही है। ऑडियो में, सलोनी को मीडिया समूह से बर्खास्त करने पर डरावनी आवाज में अपनी नाराजगी व्यक्त करते हुए सुना जा रहा है।

वायरल ऑडियो में सुना जा रहा है कि फोन पर बातचीत के दौरान महिला कल्पेश से 5 करोड़ रुपये की मांग कर रहीं है और साथ ही उसे अपने पद से इस्तीफा देने के लिए भी कर रहीं है। वह ऑडियो में कह रहीं है कि उनके इस्तीफे में एकमात्र अंतर आएगा और उनकी ब्लैकमेलिंग की डिग्री कम हो जाएगी।

वायरल ऑडियो में सुना जा रहा है कि महिला कल्पेश से कह रही है कि यदि आप भास्कर से इस्तीफा दे देते है तो मै स्लो पोजिस्न पर आ जाउंगी और अगर तुम भास्कर नहीं छोड़ोगे तो आपको केवल साइनाइड मिलेगा। ऑडियो में वह आगे कह रहीं है कि अगर में आपके सारे सबूत किसी को भी दे दू तो मुझे आराम से 5 करोड़ रुपये मिल जाएँगे। साथ ही वह कह रहीं है कि तुम्हे बर्बाद करने के लिए मुझे कई लोग ऑफर दे चुके है।

न्यूज़ 18 हिंदी की ख़बर के मुताबिक सलोनी अरोड़ा को मुंबई से गिरफ्तार करने के बाद रविवार को इंदौर की विशेष अदालत में पेश किया गया। अदालत ने पूछताछ के लिए सलोनी को पांच दिन की पुलिस रिमांड पर सौंपने का आदेश दिया।

बता दें कि बीते 12 जुलाई को कल्पेश ने दैनिक भास्कर के इंदौर की बिल्डिंग से कूदकर कथित तौर पर आत्महत्या कर ली थी। दैनिक भास्कर के मुताबिक 21 जून 1963 को जन्मे कल्पेश 1998 से दैनिक भास्कर समूह से जुड़े थे। 55 वर्षीय याग्निक प्रखर वक्ता और देश के विख्यात पत्रकार थे। वे पैनी लेखनी के लिए जाने जाते थे।

देश और समाज में चल रहे संवेदनशील मुद्दों पर बेबाक और निष्पक्ष लिखते थे। प्रति शनिवार दैनिक भास्कर के अंक में प्रकाशित होने वाला उनका कॉलम ‘असंभव के विरुद्ध’ देशभर में चर्चित था। उनके परिवार में मां प्रतिभा याग्निक, पत्नी भारती, बड़ी बेटी शेरना, छोटी बेटी शौर्या, भाई नीरज और अनुराग हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here