दलित छात्र के खुदकुशी पर सोशल मीडिया यूजर्स बोले- ‘JNU में भी एक रोहित वेमुला की मौत’

0

जवाहर लाल नेहरु यूनिवर्सिटी (जेएनयू) के 27 साल के एक छात्र ने दक्षिण दिल्ली के मुनिरका इलाके में सोमवार(13 मार्च) शाम अवसाद के चलते कथित तौर पर आत्महत्या कर ली। पुलिस ने बताया कि मुथुकृष्णनन जीवानंदम (रजनी कृष) नाम का यह युवक जेएनयू में एमफिल का छात्र था।

पुलिस के मुताबिक वह निजी कारणों को लेकर अवसाद में था, जबकि उसके दोस्तों ने उसका फेसबुक पोस्ट साझा किया, जिसमें उसने एमफिल और पीएचडी दाखिले में कथित भेदभाव का आरोप लगाया था। कृष ने 10 मार्च को किए फेसबुक पोस्ट में लिखा है, ‘एमफिल: पीएचडी दाखिले में कोई समानता नहीं है, मौखिक परीक्षा में कोई समानता है..।’ उन्होंने कहा कि ‘जब समानता नहीं मिलती है तब कोई चीज नहीं मिलती है।’

पुलिस ने बताया कि अब तक कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। उन्होंने बताया कि पिछले कुछ समय से वह निजी कारणों को लेकर अवसाद में था। पुलिस ने उसका शव पंखे से लटका पाया। छात्रों के मुताबिक, रजनी भी अनुसूचित जाति से थे और वह रोहित वेमुला की मौत के बाद हुए आंदोलन में सक्रिय रहते थे।

रजनी के पिता का कहना है कि उनका बेटा कायर नहीं था कि वह आत्महत्या कर ले। कृष की संदिग्ध मौत की चर्चा सोशल मीडिया पर भी है। कुछ लोग रजनी की कथित खुदकुशी को बीते साल हैदराबाद यूनिवर्सिटी में सुसाइड करने वाले दलित छात्र रोहित वेमुला से जोड़कर देख रहे हैं।

पढ़ें, दलित छात्र रजनी कृष की कथित आत्महत्या क्या बोले सोशल मीडिया यूजर्स:-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here