कश्मीर वाले बयान को लेकर शाहिद अफरीदी पर भड़के जावेद मियांदाद

0

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी कश्मीर को लेकर दिए अपने बयान को लेकर अपने देश में चौतरफा घिर गए हैं। उन्होंने कहा था कि पाकिस्तान खुद के चार राज्य नहीं संभाल सकता वह कश्मीर क्या लेगा। अफरीदी का यह बयान अपने देश और वहां की नई सरकार के रुख के विपरीत है कि उनका देश कश्मीर पर कब्जा करना नहीं चाहता, क्योंकि वह अपने चार प्रांतों को ही संभाल नहीं पा रहा है। अफरीदी के इस बयान का वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है।

FILE PHOTO: AFP

अपने देश में आलोचनाओं के शिकार हो रहे हैं शाहिद अफरीदी के बयान पर पाकिस्तान के पूर्व कप्तान जावेद मियांदाद ने अपने देश के क्रिकेटरों को विवादों से बचने के लिए राजनीतिक और अन्य संवेदनशील मसलों पर अपनी राय रखने से बचने की सलाह दी। हरफनमौला शाहिद अफरीदी द्वारा कश्मीर मसले पर विवादास्पद बयान दिए जाने के बाद उन्होंने यह बात कही।

पीटीआई के मुताबिक मियांदाद ने कराची में पत्रकारों से कहा, ‘मैं यही कहूंगा कि जो अफरीदी ने कहा, वह उचित नहीं था और इससे बचा जा सकता था।’ उन्होंने कहा, ‘क्रिकेटरों को सियासी और अन्य संवेदनशील मसलों पर बयान देने से बचना चाहिए। उन्होंने रिटायर होने तक क्रिकेट पर ही ध्यान लगाना चाहिए और उसके बाद नए करियर के बारे में सोचना चाहिए।’

क्या है पूरा मामला?

आपको बता दें कि सोशल मीडिया में आए एक वीडियो के अनुसार, अफरीदी ने ब्रिटिश संसद में छात्रों को संबोधित करते हुए कहा, “मैं कहता हूं कि चलो पाकिस्तान को नहीं चाहिए कश्मीर… इंडिया को भी न दो। कश्मीर अपना एक मुल्क बने। कम से कम इंसानियत तो जिंदा रहे। जो लोग मर रहे हैं वो तो ना हो यार। नहीं चाहिए पाकिस्तान को… पाकिस्तान से ये चार सूबे नहीं संभल रहे। इंसानियत बड़ी चीज है, जो वहां पर लोग मर रहे हैं, तकलीफ होती है। कहीं पर भी इंसान मरता है, चाहे वह किसी भी मजहब का हो, तकलीफ होती है।”

भारतीय मीडिया पर फोड़ा ठीकरा

हालांकि, इस मुद्दे पर बाद में सफाई देते हुए शाहिद अफरीदी ने ट्वीट कर लिखा है कि मेरी टिप्पणी को भारतीय मीडिया द्वारा गलत तरीके से पेश किया जा रहा है। मैं अपने देश के बारे में भावुक हूं और कश्मीरियों के संघर्षों को बहुत महत्व देता हूं। मानवता को जीतना चाहिए और उन्हें अपने अधिकार प्राप्त करना चाहिए। उन्होंने एक अन्य ट्वीट में लिखा कि मेरी क्लिप अधूरी और संदर्भ से बाहर जो मैंने पहले कहा था वह गायब है।

अफरीदी ने ट्वीट में लिखा है, “मेरी क्लिप अधूरी है और इसे संदर्भ से हटकर पेश किया जा रहा है, क्योंकि उससे पहले जो मैंने कहा था वो इसमें नहीं है। कश्मीर एक अनसुलझी गुत्थी है और भारत के निर्मम कब्जे में है। संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव के तहत इसका हल निकाला जाना चाहिए। मुझ समेत प्रत्येक पाकिस्तानी कश्मीर की आजादी के संघर्ष का समर्थन करता है। कश्मीर पाकिस्तान का है।”

एक अन्य ट्वीट में अफरीदी ने लिखा है, “मेरे बयान को भारतीय मीडिया गलत रूप में पेश कर रहा है। मैं अपने देश से प्यार करता हूं और कश्मीरियों के संघर्ष का काफी सम्मान करता हूं। मानवता की जीत होनी चाहिए और उन्हें उनके अधिकार मिलने चाहिए।”

अफरीदी के इस बयान का भले ही पाकिस्तान में विरोध हो रहा हो, लेकिन भारत में केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह के साथ-साथ लाखों लोगों ने दिल खोलकर उनके बयान का स्वागत किया है। राजनाथ सिंह से गुरुवार को जब पत्रकारों ने अफरीदी के बयान के बारे में पूछा तो उन्होंने अफरीदी की तारीफ करते हुए कहा, “बात तो ठीक कही उन्होंने। वो पाकिस्तान नहीं संभाल पा रहे हैं, कश्मीर क्या संभालेंगे। कश्मीर के बारे में कोई सवाल ही नहीं है। कश्मीर भारत का हिस्सा था, है और रहेगा।”

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here