जापान में 20 सेकंड पहले रवाना हुई ट्रेन तो रेलवे ने मांगी माफी, यूजर्स बोले- भारत में तो 20 घंटे लेट चलती है तो भी रेलवे को शर्मिंदगी महसूस नही होती

0

एक तरफ भारत में जहां किसी ट्रेन के घंटा-दो घंटा देर से चलने को लेकर कभी चर्चा तक नहीं होती, वहीं दूसरी तरफ जापान में एक ट्रेन के निर्धारित समय से 20 सेकंड जल्दी रवाना होने को लेकर कंपनी को माफी मांगनी पड़ी। जी हां, जापान में रेलवे का संचालन करने वाली एक कंपनी ने एक ट्रेन के 20 सेकंड पहले स्टेशन से रवाना होने के कारण यात्रियों को हुई ‘अत्याधिक परेशानी’ के लिए माफी मांगी है।

PHOTO: Sky News

न्यूज एजेंसी भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक समय का पालन करने और अपनी शिष्टता के लिए जाना जाने वाला जापान भी इस घटना से हैरान है। टोक्यो और उसके उत्तरी उपनगरों को जोड़ने वाली सुकुबा एक्सप्रेस ट्रेन मिनामी नगरेयामा स्टेशन से 9:44:40 की बजाए 9:44:20 पर रवाना हो गई थी।

सुकुबा एक्सप्रेस कंपनी की ओर से जारी माफी में कहा गया कि, ‘‘यात्रियों को हुई भारी परेशानी के लिए हम बहुत अधिक माफी चाहते हैं।’’ फर्म का कहना है कि, हालांकि इस संबंध में किसी यात्री ने कोई शिकायत नहीं की है। इस घटना के कारण किसी यात्री की ट्रेन नहीं छूटी थी। बता दें कि बुलेट ट्रेन सहित जापान की रेलवे प्रणाली अपनी समयबद्धता के लिए प्रसिद्ध है।

 

क्या भारत में भी ऐसा हो सकता है?

जापान की इस खबर को लेकर भारत में सोशल मीडिया खूब चर्चा हो रही है। लोगों का कहना है कि भारत में तो 20 घंटे लेट चलती है तो भी रेल कंपनी को शर्मिंदगी महसूस नही होती। एडवोकेट आरके मिश्रा नाम के एक यूजर्स ने ट्विटर इस खबर को शेयर करते हुए लिखा है, “जापान में ट्रेन 20 मिनट (गलती से सेकंड की जगह मिनट लिख दिया है) पहले छुटी, इसके लिए कंपनी ने माफी मांगी, और भारत में ट्रेन 20 घंटे लेट चलती है तो भी यहां के रेल कंपनी को शर्मिंदगी महसूस नही होती है”

गौरतलब है कि भारत ने जापान से ही बुलेट ट्रेन का सौदा किया है। भारत की पहली हाई स्पीड बुलेट ट्रेन जो कि अहमदाबाद और मुंबई के बीच चलेगी उसपर कुल 1,10,000 करोड़ रुपए (17 बिलियन डॉलर) खर्च होंगे। यह दुनिया के 83 देशों की जीडीपी से ज्यादा है।

जापान इस प्रोजेक्ट के लिए 88,000 करोड़ रुपए जो कि कुल लागत का 81 प्रतिशत है उसका वहन करेगा। यह पैसा 0.1 प्रतिशत की बयाज दर पर 50 साल के लिए दिया गया है। इसकी मदद के भारत को 15 अगस्त 2022 तक अपनी पहली बुलेट ट्रेन मिल जाएगी। उस दिन भारत की आजादी के 75 साल पूरे हो जाएंगे।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here