उत्तर पूर्वी दिल्ली में हुई सांप्रदायिक हिंसा के मामले में जामिया यूनिवर्सिटी का छात्र गिरफ्तार, RJD ने दिल्ली पुलिस को घेरा

0

दिल्ली पुलिस ने उत्तर पूर्वी दिल्ली में हुई सांप्रदायिक हिंसा भड़काने की कथित साजिश रचने के आरोप में गुरुवार को जामिया मिल्लिया इस्लामिया के एक छात्र को गिरफ्तार किया। इस पर राजनीति भी तेज हो गई है। क्योंकि, जिस छात्र को गिरफ्तार किया गया है वह बिहार के पूर्व सीएम लालू प्रसाद यादव की पार्टी आरजेडी से जुड़े हुए हैं। आरजेडी ने इस गिरफ्तारी को लेकर दिल्ली पुलिस पर निशाना साधा है।

सांप्रदायिक हिंसा
फाइल फोटो, सोशल मीडिया: मीरान हैदर

समाचार एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक, सूत्रों ने बताया कि जामिया में पीएचडी का छात्र और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) की छात्र इकाई के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष 35 वर्षीय मीरान हैदर को गिरफ्तार किया गया है। अधिकारियों ने बताया कि बुधवार सुबह 10 बजे हैदर को पुलिस की विशेष शाखा ने पूछताछ के लिए लोधी कॉलोनी स्थित कार्यालय बुलाया था जिसके बाद उसे गिरफ्तार किया गया।

राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के राज्यसभा सदस्य मनोज झा ने ट्वीट किया, ‘‘बात बिलकुल साफ़ है। दिल्ली पुलिस ने उसे जांच के लिए बुलाया था, घर वापस भेजने की बात थी। लेकिन ऊपर से आदेश आने के बाद मीरान हैदर को गिरफ्तार कर लिया गया जो कोरोना वायरस महामारी के समय लोगों की मदद कर रहा था।’’

पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक, जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में राजद की छात्र शाखा ने भी मीरान हैदर की रिहाई की मांग करते हुए कहा कि पुलिस को जनता का मित्र बनना चाहिए न कि उन्हें भयभीत करने वाला। जामिया के छात्रों और शिक्षकों के संगठन जामिया समन्वय समिति (जेसीसी) ने भी गिरफ्तारी की निंदा की और उसकी तुरंत रिहाई की मांग की।

जेसीसी ने कहा, ‘‘देश बड़े स्वास्थ्य संकट का सामना कर रहा है और इसबीच राज्य की मशीनरी छात्र कार्यकर्ता को विरोध की आवाज को दबाने के लिए प्रताड़ित करने और झूठे मामले दर्ज करने में लगी है।’’ जेसीसी ने कहा कि हैदर लॉकडाउन के दौरान जरूरतमंदों को राशन पहुंचाने में लगा था। उन्होंने कहा, ‘‘जेसीसी हैदर की तुरंत रिहाई की मांग करती है क्योंकि उसके खिलाफ लगाए गए आरोप आधारहीन हैं।’’

गौरतलब है कि, फरवरी में उत्तर पूर्वी दिल्ली में सांप्रदायिक हिंसा हुई थी जिसमें 53 लोगों की मौत हुई गई थी जबकि कई अन्य घायल हुए थे। राजधानी दिल्ली में चार दिनों तक जारी रही हिंसा में 200 से अधिक लोग घायल हो गए, इनमें 11 पुलिसकर्मी भी शामिल हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here