क्राइस्टचर्च नरसंहार: न्यूजीलैंड की PM जेसिंडा अर्डर्न ने हिजाब पहनकर मुस्लिम समुदाय के साथ जाहिर की एकजुटता, आतंकी हमले के पीड़ित परिजनों से मुलाकात कर बंधाया ढांढस

0

न्यूजीलैंड के प्रधानमंत्री जैसिंडा अर्डर्न ने शनिवार (16 मार्च) को हिजाब पहनकर शुक्रवार को मस्जिदों में हुए आतंकी हमले के पीड़ित परिवारों से मुलाकात की और इस दुख की घड़ी में उन्हें ढांढस बंधाया। इस आतंकी हमले की घटना में 49 मुस्लिम लोगों के मारे जाने के एक दिन बाद शनिवार को जेसिंडा अर्डर्न ने ‘हिजाब’ पहनकर मुस्लिम समुदाय के साथ एकजुटता दर्शाते हुए कहा कि यह वह न्यूजीलैंड नहीं है, जिसे लोग जानते हैं। उन्होंने क्राइस्टचर्च कैंटरबरी रिफ्यूजी सेंटर में अपने 40 मिनट के संबोधन के दौरान यह टिप्पणी की, जहां उन्होंने शुक्रवार के खूनी नरसंहार से सबसे ज्यादा प्रभावित देश के मुस्लिम समुदाय को एकता का संदेश दिया।

बाद में 24 घंटे के अंदर अपनी दूसरी प्रेस कॉन्फेंस अर्डर्न ने संवाददाताओं से कहा कि अब देश में बंदूक कानून बदल जाएगा। अर्डर्न ने कहा कि देश में बूंदक के लाइसेंस कानून में संशोधन किया जाएगा। बता दें कि न्यूजीलैंड में क्राइस्टचर्च की दो मस्जिदों में शुक्रवार को हुए आतंकी हमले में कम से कम 49 लोगों की मौत हो गई और 20 से अधिक लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। एक बंदूकधारी की पहचान आस्ट्रेलियाई दक्षिणपंथी चरमपंथी के रूप में हुई है, जिसने हमले की स्पष्ट रूप से फेसबुक पर ऑनलाइन लाइवस्ट्रीमिंग की। इस हमले के बाद क्राइस्टचर्च में किसी के आने और शहर से किसी के बाहर जाने पर रोक लगा दी गई।

काले रंग की सलवार-कमीज पहने और सिर पर दुपट्टा ढके जेसिंडा ने मौजूद मीडिया और मुस्लिम नेताओं से कहा कि आपने तत्काल इस बात का उल्लेख किया कि यह वह न्यूजीलैंड नहीं है जिसे आप जानते हैं। मैं इस बात को आज फिर से दोहराना चाहती हूं। यह न्यूजीलैंड नहीं है। उन्होंने कहा कि मस्जिद से शवों को निकालने का काम अब भी जारी है। आपातकालीन सेवाएं अभी भी डीन्स एवेन्यू मस्जिद से शवों को निकाल रही हैं। प्रधानमंत्री ने उम्मीद जताई कि शनिवार तक सभी शव वहां से निकाल लिए जाएंगे। जेसिंडा ने ऐलान किया कि अपने प्रियजनों को खोने वाले परिवारों को मुआवजा दिया जाएगा।

उन्होंने कहा कि पूरे न्यूजीलैंड की मस्जिदों में पुलिस सुरक्षा जब तक जारी रहेगी जब तक कि यह सुनिश्चित नहीं हो जाता कि खतरा टल गया है। क्राइस्ट चर्च में हुए हमले के आरोपी आस्ट्रेलियाई शख्स के खिलाफ और आरोप भी लगाए जाएंगे। 28 वर्षीय आरोपी शनिवार सुबह अदालत के समक्ष पेश हुआ और उस पर हत्या का मामला दर्ज किया गया। टेलीविजन न्यूजीलैंड (टीवीएनजेड)के मुताबिक, प्रधानमंत्री ने उप प्रधानमंत्री विंस्टन पीटर्स और विपक्षी नेशनल पार्टी के नेता साइमन ब्रिजेस के साथ सेंटर का दौरा किया।

इससे पहले न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जैसिंडा अर्डर्न ने शुक्रवार को इसे ‘‘न्यूजीलैंड के सबसे काले दिनों में से एक’’ करार दिया और कहा, ‘‘यह स्पष्ट है कि इसे अब केवल आतंकवादी हमला ही करार दिया जा सकता है। हम जितना जानते हैं, ऐसा लगता है कि यह पूर्व नियोजित था।’’ वहीं, आस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने बताया कि गोलीबारी करने वाला एक बंदूकधारी एक दक्षिणपंथी चरमपंथी है, जिसके पास आस्ट्रेलिया की नागरिकता है।

यह किसी पश्चिमी देश में मुस्लिमों के खिलाफ सबसे भीषण आतंकी हमला प्रतीत होता है। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि पीड़ितों पर बहुत नजदीक से गोलियां चलाई गईं। मृतकों में महिलाएं एवं बच्चे भी शामिल हैं। मस्जिद में मौजूद एक फलस्तीनी व्यक्ति ने बताया कि उसने एक व्यक्ति के सिर में गोली लगती देखी। उसने कहा, ‘‘मुझे लगातार तीन गोलियों की आवाज सुनाई दी और मुश्किल से 10 सेकंड बाद ही फिर से ऐसा हुआ। हमलावर के पास संभवत: स्वचालित हथियार होगा क्योंकि कोई इतनी जल्दी ट्रिगर नहीं दबा सकता।’’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here