इसरो की ऐतिहासिक छलांग, पहली बार एक साथ दो कक्षाओं में 8 सैटेलाइट स्थापित करने के लिए पीएसएलवी-सी35 ने उड़ान भरी

0

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) सोमवार को अभी तक के सबसे बड़े प्रक्षेपण अभियान को अंजाम दे दिया है। सोमवार सुबह 9.12 बजे श्रीहरिकोटा से पोलर उपग्रह प्रक्षेपण यान (पीएसएलवी) राकेट से आठ उपग्रहों को प्रक्षेपित किया गया जिसका पहला चरण सफलता पूर्वक पूरा हो गया है।

महासागर और मौसम के अध्ययन के लिए तैयार किये गये स्कैटसैट-1 (एससीएटीएएटी-1) और सात अन्य उपग्रहों को लेकर पीएसएलवी सी-35 ने आज सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से उड़ान भरी. स्कैटसैट-1 से इतर सात उपग्रहों में अमेरिका और कनाडा के उपग्रह भी शामिल हैं.

Also Read:  योगी सरकार के मंत्री बोले- 'भारत को 'हिन्दू राष्ट्र' घोषित करने की मांग अनावश्यक'

स्कैटसैट-1 के अलावा, इसरो का 44.4 मीटर लंबा पीएसएलवी रॉकेट दो भारतीय विश्वविद्यालयों के उपग्रह भी साथ लेकर गया है. इसके अलावा तीन उपग्रह अल्जीरिया के हैं और एक-एक उपग्रह अमेरिका और कनाडा का है. पीएसएलवी सी-35 ने चेन्नई से लगभग 110 किलोमीटर दूर स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से सुबह नौ बजकर 12 मिनट पर उड़ान भरी. यह पहली बार है, जब पीएसएलवी दो अलग-अलग कक्षाओं में पेलोड प्रक्षेपित करेगा.

Also Read:  India successfully launch advanced weather satellite INSAT-3DR onboard GSLV-F05

एनडीटीवी की खबर के अनुसार, इस काम के लिए चार चरणों वाले इंजन को दो बार पुन: शुरू किया जाएगा. पीएसएलवी सी-35 चेन्नई से करीब 110 किमी दूर स्थित स्थित सतीश धवन स्पेस सेंटर से सुबह नौ बजकर 12 मिनट पर अपने सफर के लिए रवाना हुआ. स्कैटसैट-1 एक प्रारंभिक उपग्रह है और इसे मौसम की भविष्यवाणी करने और चक्रवातों का पता लगाने के लिए है. इसरो ने कहा कि यह स्कैटसैट-1 द्वारा ले जाए गए कू-बैंड स्कैट्रोमीटर पेलोड के लिए एक ‘सतत’ अभियान है.

Also Read:  अखिलेश बोले- जब चिप से बिना इंटनरेट के पेट्रोल चोरी हो सकता है तो EVM से भी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here