सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड केसः बिहार के IPS अधिकारी विनय तिवारी को BMC ने क्वारंटीन से किया मुक्त, पटना जाने की मिली इजाजत

0

बृहन्मुंबई महानगर पालिका (बीएमसी) ने बिहार के आईपीएस अधिकारी विनय तिवारी को 6 दिनों तक होम क्वारंटाइन करने के बाद मुक्त कर दिया है। देर रात जारी किए गए एक आदेश में बीएमसी के अतिरिक्त नगर आयुक्त पी. वेलरासु ने तिवारी को होम क्वारंटाइन से रिहा करने की अनुमति दी।

बिहार

गौरतलब है कि, बिहार पुलिस ने गुरुवार को बीएमसी को एक पत्र लिखा था, जिसमें कहा गया था कि तिवारी को अपनी ड्यूटी फिर से शुरू करने के लिए अपने गृह राज्य में वापसी के लिए होम क्वारंटाइन से छोड़ा जाना चाहिए। बिहार पुलिस ने यह भी बताया कि मुंबई में अब उनकी आवश्यकता नहीं है और उनके वापसी की अवधि 7 दिनों के भीतर थी। बीएमसी ने तिवारी को 8 अगस्त तक मुंबई छोड़ने के लिए कहा है।

बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले की जांच के लिए 2015 बैच के एक आईपीएस अधिकारी तिवारी 2 अगस्त को पटना से यहां पहुंचे थे। हालांकि कोविड -19 प्रोटोकॉल के अनुसार, उन्हें गोरेगांव में एसआरपीएफ गेस्ट हाउस में होम क्वारंटाइन कर लिया गया था।

इस बीच बिहार सरकार ने इस केस की सीबीआई जांच करवाने के लिए केंद्र सरकार से सिफारिश की थी, अब सीबीआई जांच करेगी। सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में रिया चक्रवर्ती को सीबीआई द्वारा दर्ज एफआईआर में एक अभियुक्त के रूप में नामित किया गया है।

केंद्र द्वारा एजेंसी को बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत की जांच करने के लिए कहने के एक दिन बाद, केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने गुरुवार को एफआईआर के आधार पर रिया चक्रवर्ती और उसके परिवार के सदस्यों सहित 6 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया। यह एफआईआर सुशांत के परिजनों की शिकायत पर बिहार पुलिस द्वारा दर्ज किए गए मामले के आधार पर की गई है।

सीबीआई ने रिया, उनके पिता इंद्रजीत चक्रवर्ती, मां संध्या चक्रवर्ती, भाई शोविक चक्रवर्ती, सुशांत के घर के मैनेजर सैमुअल मिरांडा, श्रुति मोदी और अन्य को नामजद किया है। रिया चक्रवर्ती और अन्य के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने, आपराधिक षड्यंत्र रचने, चोरी, धोखाधड़ी और धमकी देने समेत भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।

सुशांत को 14 जून को मुंबई के बांद्रा में अपने फ्लैट में मृत पाया गया था। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सुशांत के पिता के के सिंह के अनुरोध पर मंगलवार को इस मामले को सीबीआई को सौंपने की सिफारिश की थी। इसके अलावा अन्य कई राजनीतिक नेताओं ने भी सुशांत की मौत की सीबीआई जांच की मांग की है।

के के सिंह की शिकायत पर बिहार पुलिस ने 25 जुलाई को रिया के खिलाफ मामला दर्ज किया था। सुशांत के पिता ने पटना में रिया के खिलाफ धोखाधड़ी और उनके बेटे को धमकी देने का आरोप लगाते हुए प्राथमिकी दर्ज कराई थी। सुशांत के परिवार ने रिया पर सुशांत को उनसे दूर रखने का भी आरोप लगाया है।

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने भी पटना पुलिस की प्राथमिकी के आधार पर मनी लॉन्ड्रिंग जांच शुरू की है और शुक्रवार को पूछताछ के लिए रिया को तलब किया है। इससे पहले, मामले में बिहार पुलिस द्वारा जांच के मुद्दे पर महाराष्ट्र और बिहार सरकारों के बीच एक मौखिक द्वंद देखने को मिला था। (इंपुट: आईएएनएस के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here