सोनिया गांधी द्वारा बर्खास्त किए जाने पर अशोक चौधरी ने कहा- मैं इस बेइज्जती का हकदार नहीं हूं

0

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने राजद से गठबंधन के विरोधी प्रदेश अध्यक्ष अशोक चौधरी को पद से बर्खास्त कर कौकब कादरी को कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त किया है। अशोक चौधरी को उनके पद से तुरंत प्रभाव से हटा दिया है। जिसके बाद अशोक चौधरी ने भावुक होते हुए अपनी चुप्पी तोड़ी है। प्रदेश अध्यक्ष के पद से हटाए जाने के एक दिन बाद बिहार कांग्रेस के नेता अशोक चौधरी ने पार्टी नेतृत्व पर गंभीर आरोप लगाए।

अशोक चौधरी

मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक, बुधवार को पार्टी नेतृत्व पर गंभीर आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि वह दलित हैं, इसलिए पार्टी ने उन्हें पद से हटाया गया है। चौधरी ने कहा, ‘पार्टी के निर्णय का मैं स्वागत करता हूं लेकिन जिस तरह से हमें अपमानित करके निकाला गया है, उसके हम हकदार नहीं थे।

कांग्रेस महासचिव जर्नादन द्विवेदी ने बताया कि सोनिया गांधी ने उन्हें तत्काल प्रभाव से पद से हटा दिया है. बिहार से लगातार कांग्रेस विधायकों के टूटने की खबरें आ रही हैं और अशोक चौधरी पार्टी में एकजुटता पैदा करने में नाकाम रहे थे। उन पर पार्टी में फूट डालने के आरोप लग रहे थे, जिसके बाद कांग्रेस आलाकमान ने मंगलवार को ये फैसला लिया।

अशोक चौधरी ने पार्टी के खिलाफ जाकर कहा कि बिहार कांग्रेस प्रभारी सीपी जोशी ने आलाकमान को गुमराह किया। अब वे आलाकमान के खिलाफ मोर्चा खोलेंगे। दशहरा के बाद अपना फैसला लेंगे।

पटना में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में अशोक चौधरी भावुक भी हो गए और उनके आंखों में आंसू आ गए। उन्होंने कहा कि मेरा परिवार शुरु से समर्पित कांग्रेसी रहा है लेकिन पद से हटाने की सूचना मुझे मीडिया से मिली।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here