एक दिन के लिए जेल से बाहर आई इंद्राणी मुखर्जी, पिता के अंतिम संस्कार में होना है शामिल

0

शीना बोरा हत्याकांड की प्रमुख आरोपी इन्द्राणी मुख़र्जी को अपने पिता के मुत्यु उपरांत अंतिम संस्कार के लिए  बायकला जेल से मुलुंड ले जाया गया। सीबीआई की एक विशेष अदालत ने संस्कारों को पूरा करने के लिए सुबह 7 बजे से लेकर शाम 7 बजे तक अपने घर समेत कहीं भी जाने की अनुमति दी है।

 इंद्राणी मुखर्जी

हालांकि अदालत ने इन्द्राणी की अपने पैतृक निवास गुवाहाटी जाने की याचिका ख़ारिज कर दी। उनके पिता उपेंद्र बोरा की बीते 15 दिसम्बर को देहावसान हो गया था।

इन्द्राणी को पुलिस की उपस्थिति में सुबह 7:30 बजे मुलुंड के ब्राह्मण सेवा समिति हॉल ले जाया गया। विशेष न्यायाधीश एच एस महाजन ने अपने 22 दिसम्बर के फैसले में कहा था कि इन्द्राणी को सुबह जेल से ले जाने के बाद शाम सात बजे तक वापिस लाया जाए। साथ ही, उन्होंने इंद्राणी को मीडिया से बात ना करने का आदेश भी दिया था।

इन्द्राणी ने असम जाने के लिए अंतरिम जमानत की याचिका दी थी लेकिन सीबीआई ने इसका विरोध किया था। एजेंसी ने अदालत के समक्ष उनके बेटे मिखाइल का वो ईमेल भी प्रस्तुत किया जिसमे उसने इंद्राणी के गुवाहाटी आने को लेकर विरोध जताया था। साथ ही, सीबीआई ने आशंका जताई थी कि वो गवाहों को प्रभावित करने के साथ ही हिरासत से भागने की कोशिश भी कर सकती है। एजेंसी के मुताबिक, इंद्राणी, उसके पूर्व पति संजीव खन्ना और ड्राइवर श्याम राय ने अप्रैल 2012 में शीना बोरा की कथित हत्या की थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here