शीना बोरा हत्याकांड मामले में बंद इंद्राणी मुखर्जी पर लगा जेल में दंगा भड़काने का आरोप, FIR दर्ज

0

चर्चित शीना बोरा हत्याकांड में मुंबई के बाइकुला जेल में बंद इंद्राणी मुखर्जी के खिलाफ जेल में दंगा भड़काने के आरोप में केस दर्ज किया गया है। इंद्राणी पर आरोप है कि उन्होंने एक कैदी की मौत के बाद महिला कैदियों को भड़काकर जेल में हिंसा करवाई। इस हंगामे और बवाल में जेल के कई कर्मचारी घायल हो गए। फिलहाल, जेल प्रशासन इस मामले की जांच कर रहा है।

फाइल फोटो।

अपनी बेटी शीना बोरा की हत्या के आरोप में जेल में बंद इंद्राणी उन 200 महिला कैदियों में शामिल है, जिनके खिलाफ एक महिला कैदी की मौत हो जाने के बाद दंगा भड़काने का आरोप लगा है। आरोप है कि इंद्राणी मुखर्जी ने महिला कैदियों के बच्चों का इस्तेमाल करते हुए जेलकर्मियों के खिलाफ हंगामा करने के लिए उत्तेजित किया। जिसके बाद कैदियों ने जेल की छत पर चढ़कर जमकर बवाल किया। साथ ही मारपीट और तोड़फोड़ भी की।

बता दें कि बाइकुला जेल में महिला कैदियों को अपने 6 साल के बच्चों के अपने साथ रखने की इजाजत है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, शुरुआती जांच में पता चला कि कैदी मंजुला की मौत के विरोध में महिला कैदियों ने हंगामा काटा था। इंद्राणी पर आरोप है कि उन्होंने महिला कैदियों को हिंसक प्रदर्शन के लिए उकसाया और बच्चों को मानव ढाल के तौर पर इस्तेमाल करने को कहा।

जिसके बाद इंद्राणी मुखर्जी सहित करीब 200 सजायाफ्ता और विचाराधीन कैदियों के खिलाफ सुरक्षाकर्मी के साथ मारपीट करने और जेल की छत पर चढ़कर हिंसकर प्रदर्शन करने के लिए केस दर्ज किया गया है। रिपोर्ट मुताबिक, मंजुला शेट्टे नाम की महिला कैदी को जेल में कथित तौर पर अधिकारी द्वारा पीटने के बाद उसे जेजे हॉस्पिटल में भर्ती कराना पड़ा था। जहां, शुक्रवार रात उसने दम तोड़ दिया।

मंजुला शेट्टे के परिजनों ने जेलर पर मंजुला को थप्पड़ मारने का आरोप लगाया है, और परिजनों का आरोप है कि उसी पिटाई के बाद शुक्रवार शाम को मंजुला की मौत हो गई। फिलहाल, नागपाड़ा पुलिस ने महिला जेलर और पांच अन्य जेलकर्मियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर लिया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक, मंजुला शेट्टे के शरीर पर अंदरूनी चोटें थी, जो मौत की वजह हो सकते हैं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here