विमानन कंपनी इंडिगो के ‘वेब चेकइन’ शुल्क पर रेलवे ने ली चुटकी, यात्रियों का ऐसे किया स्वागत

0

विमानन कंपनी इंडिगो ने 14 नवंबर से वेब चेक-इन पर शुल्क वसूलना शुरू कर दिया है। कंपनी के इस कदम की सोशल मीडिया पर जमकर आलोचना हो रही है। इसी बीच, रेलवे ने इंडिगो के ‘वेब चेक इन’ पर ग्राहकों से शुल्क वसूलने के फैसले पर चुटकी ली है।

इंडिगो

रेल मंत्रालय ने सोमवार (26 नवंबर) को ट्वीट कर कहा, ‘उड़ान पर वेब-चेकइन के लिये शुल्क क्यों… जबकि आप गंतव्य तक पहुंचने के लिये ट्रेन ले सकते हैं।’ बता दें कि यह दूसरा मौका है जब रेलवे ने विमानन कंपनियों से यात्रियों को अपने पाले में लाने का प्रयास किया है।

रेल मंत्रालय ने ट्वीट में कहा, ‘वेब चेकइन के लिए अतिरिक्त शुल्क देने की जरूरत नहीं है। अपने सामान की जांच के लिये कोई लंबी कतार लगाने की जरूरत नहीं है। गैर-जरूरी शुल्क से बचें और किफायती दरों में अच्छे पुराने साथी भारतीय रेलवे के साथ यात्रा करके अपने कार्बन पदचिह्न को कम करें।’

गौरतलब है कि सस्ती विमान सेवा देने वाली कंपनी इंडिगो ने 14 नवंबर से वेब चेकइन पर शुल्क वसूलना शुरू कर दिया। कंपनी के इस कदम की सोशल मीडिया पर काफी आलोचना हो रहीं है। जिसके बाद नागर विमानन मंत्रालय ने कंपनियों के इस फैसले की समीक्षा का निर्णय किया है।

मंत्रालय ने कहा कि कंपनियां वेब चेक-इन पर सभी सीटों के लिए शुल्क वसूल रही हैं, ऐसा हमारे संज्ञान में है लेकिन हम इसकी समीक्षा करेंगे कि यह अलग-अलग सेवाओं के लिए कीमत निर्धारण करने की मौजूदा व्यवस्था के अनुरूप है या नहीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here